Hindi Panchang, Online Muhurat, Astrology Services, Festivals, Vrat Tyohar

नामकरण मुहूर्त 2020 (Naamkaran Muhurat 2020)

 

नामकरण मुहूर्त 2020

दिनांकदिनतिथिनक्षत्र
2 जनवरी 2020गुरूवारसप्तमीउत्तराभाद्रपद
8 जनवरी 2020बुधवारत्रयोदशीरोहिणी
15 जनवरी 2020बुधवारपंचमीउत्तराफ़ाल्गुनी
16 जनवरी 2020गुरूवारषष्ठीहस्त
17 जनवरी 2020शुक्रवारसप्तमीचित्रा
20 जनवरी 2020सोमवारएकादशीअनुराधा
27 जनवरी 2020सोमवारतृतीयाघनिष्ठा
29 जनवरी 2020बुधवारचतुर्थीउत्तराभाद्रपद
30 जनवरी 2020गुरूवारपंचमीउत्तराभाद्रपद
31 जनवरी 2020शुक्रवारषष्ठीरेवती
5 फरवरी 2020बुधवारएकादशीमृगशिरा
7 फरवरी 2020शुक्रवारत्रयोदशीपुनवर्सु
13 फरवरी 2020गुरूवारपंचमीचित्रा
14 फरवरी 2020शुक्रवारषष्ठीस्वाति
20 फरवरी 2020गुरूवारद्वादशीउत्तराषाढ़ा
21 फरवरी 2020शुक्रवारत्रयोदशीउत्तराषाढ़ा
24 फरवरी 2020सोमवारप्रतिपदाशतभिषा
26 फरवरी 2020बुधवारतृतीयाउत्तराभाद्रपद
28 फरवरी 2020शुक्रवारचतुर्थीअश्विनी
2 मार्च 2020सोमवारसप्तमीरोहिणी
5 मार्च 2020गुरूवारदशमीपुनवर्सु
6 मार्च 2020शुक्रवारएकादशीपुष्य
11 मार्च 2020बुधवारद्वितीयाचित्रा
13 मार्च 2020शुक्रवारचतुर्थी / पंचमीस्वाति
18 मार्च 2020बुधवारदशमीउत्तराषाढ़ा
19 मार्च 2020गुरूवारद्वादशीउत्तराषाढ़ा
20 मार्च 2020शुक्रवारद्वादशीश्रवण
25 मार्च 2020बुधवारप्रतिपदारेवती
26 मार्च 2020गुरूवारद्वितीयारेवती
30 मार्च 2020सोमवारषष्ठीरोहिणी
3 अप्रैल 2020शुक्रवारदशमीपुष्य
6 अप्रैल 2020सोमवारत्रयोदशीउत्तराफाल्गुनी
8 अप्रैल 2020बुधवारपूर्णिमा /प्रतिपदाचित्रा
9 अप्रैल 2020गुरूवारद्वितीयास्वाति
16 अप्रैल 2020गुरूवारनवमी / दशमीश्रवणा
17 अप्रैल 2020शुक्रवारदशमीघनिष्ठा
20 अप्रैल 2020सोमवारत्रयोदशीउत्तराभाद्रपद
27 अप्रैल 2020सोमवारचतुर्थीमृगशिरा
29 अप्रैल 2020बुधवारषष्ठीपुनवर्सु
30 अप्रैल 2020गुरूवारसप्तमीपुष्य
4 मई 2020सोमवारएकादशीउत्तराफाल्गुनी
8 मई 2020शुक्रवारप्रतिपदाअनुराधा
13 मई 2020बुधवारषष्ठीश्रवण
14 मई 2020गुरूवारसप्तमीश्रवण
18 मई 2020सोमवारएकादशीउत्तराभाद्रपद
20 मई 2020बुधवारत्रयोदशीअश्विनी
25 मई 2020सोमवारतृतीयामृगशिरा
27 मई 2020बुधवारपंचमीपुष्य
28 मई 2020गुरूवारषष्ठीपुष्य
1 जून 2020सोमवारदशमीहस्त
3 जून 2020बुधवारद्वादशीस्वाति
10 जून 2020बुधवारपंचमीश्रवण
11 जून 2020गुरूवारषष्ठीघनिष्ठा
12 जून 2020शुक्रवारसप्तमीशतभिषा
15 जून 2020सोमवारदशमीरेवती
19 जून 2020शुक्रवारत्रयोदशीरोहिणी
22 जून 2020सोमवारप्रतिपदापुनवर्सु
24 जून 2020बुधवारतृतीयापुष्य
2 जुलाई 2020गुरूवारद्वादशीअनुराधा
9 जुलाई 2020गुरूवारचतुर्थीशतभिषा
16 जुलाई 2020गुरूवारएकादशीरोहिणी
17 जुलाई 2020शुक्रवारद्वादशीरोहिणी
24 जुलाई 2020शुक्रवारचतुर्थीउत्तराफाल्गुनी
27 जुलाई 2020सोमवारसप्तमीचित्रा
29 जुलाई 2020बुधवारदशमीअनुराधा
30 जुलाई 2020गुरूवारएकादशीअनुराधा
5 अगस्त 2020बुधवारद्वितीयाघनिष्ठा
6 अगस्त 2020गुरूवारतृतीयाशतभिषा
10 अगस्त 2020सोमवारषष्ठीअश्विनी
13 अगस्त 2020गुरूवारनवमी / दशमीरोहिणी
14 अगस्त 2020शुक्रवारदशमीमृगशिरा
21 अगस्त 2020शुक्रवारतृतीयाउत्तराफाल्गुनी
24 अगस्त 2020सोमवारषष्ठीस्वाति
31 अगस्त 2020सोमवारत्रयोदशीश्रवण
2 सितम्बर 2020बुधवारपूर्णिमाशतभिषा
4 सितम्बर 2020शुक्रवारद्वितीयाउत्तराभाद्रपद
9 सितम्बर 2020बुधवारसप्तमीकृतिका
14 सितम्बर 2020सोमवारद्वादशीपुष्य
18 सितम्बर 2020शुक्रवारप्रतिपदाहस्त
25 सितम्बर 2020शुक्रवारनवमीउत्तराषाढ़ा
28 सितम्बरसोमवारद्वादशीघनिष्ठा
2 अक्टूबर 2020शुक्रवारप्रतिपदारेवती
8 अक्टूबर 2020गुरूवारषष्ठीमृगशिरा
15 अक्टूबर 2020गुरूवारत्रयोदशीउत्तराफाल्गुनी
19 अक्टूबर 2020सोमवारतृतीयाअनुराधा
23 अक्टूबर 2020शुक्रवारसप्तमीउत्तराषाढ़ा
26 अक्टूबर 2020सोमवारदशमीशतभिषा
28 अक्टूबर 2020बुधवारद्वादशीउत्तराभाद्रपद
29 अक्टूबर 2020गुरूवारत्रयोदशीउत्तराभाद्रपद
6 नवंबर 2020शुक्रवारपंचमीपुनवर्सु
12 नवम्बर 2020गुरूवारद्वादशीहस्त
13 नवंबर 2020शुक्रवारत्रयोदशीचित्रा
16 नवंबर 2020सोमवारप्रतिपदाअनुराधा
19 नवंबर 2020गुरुवारपंचमीउत्तराषाढ़ा
20 नवंबर 2020शुक्रवारषष्ठीउत्तराषाढ़ा
25 नवंबर 2020बुधवारएकादशीउत्तराभाद्रपद
26 नवंबर 2020गुरूवारद्वादशीरेवती
30 नवंबर 2020सोमवारपूर्णिमारोहिणी
2 दिसंबर 2020बुधवारद्वितीयामृगशिरा
9 दिसंबर 2020 बुधवारनवमी / दशमीहस्त
10 दिसंबर 2020गुरूवारदशमीचित्रा
11 दिसंबर 2020शुक्रवारएकादशीचित्रा
17 दिसंबर 2020गुरूवारतृतीयाउत्तराषाढ़ा
18 दिसंबर 2020शुक्रवारचतुर्थी / पंचमीश्रवण
24 दिसंबर 2020गुरुवारदशमीअश्विनी
25 दिसंबर 2020शुक्रवारएकादशीअश्विनी
31 दिसंबर 2020गुरूवारप्रतिपदापुनवर्सु

 

हम सभी जानते है हिन्दू धर्म के अनुसार 16 संस्कार होते है। नामकरण संस्कार, इन्ही सोलह संस्कारो में से एक है। हिन्दू धर्म में नामकरण संस्कार का विशेष महत्व है।  जब शिशु जन्म लेता है तो उसके दसवे या ग्यारवे दिन नामकरण संस्कार किया जाता है।

पंडित को घर पर बुलवाकर ग्रह दशा, तिथि, राशि व नक्षत्र देख कर नामकरण संस्कार करवाना चाहिए।  इन सभी चीजों का ध्यान रखकर नामकरण करवाने से बच्चे के ग्रह शांत रहते है। सही विधि और सही मुहूर्त पर नामकरण करवाने से शिशु के जीवन में आने वाले सभी कष्ट दूर होते है। 2020 में आने वाले विभिन्न नामकरण मुहूर्त ऊप्पर दिए गए है।