Hindi Panchang, Online Muhurat, Astrology Services, Festivals, Vrat Tyohar

पुष्यामृत योग 2020

जिस तरह सिंह को सबसे ताकतवर माना जाता है ठीक उसी प्रकार सभी नक्षत्रो को पुष्य नक्षत्र को सबसे बलवान माना जाता है। यही पुष्यामृत योग जब गुरूवार के दिन पड़ता है तो वह अत्यंत ही फलदायी योग होता है। ज्योतिषी शास्त्र के अनुसार यह योग बहुत ही शुभ माना गया है।  जब कभी भी किसी शुभ कार्य के लिए कोई मुहूर्त नहीं मिल रहा हो तो इस योग में कोई भी कार्य किया जा सकता है।

पुष्यामृत योग जब गुरूवार को पड़ता है तो उसे गुरु पुष्यामृत योग भी कहते है। इस योग में कोई भी मांगलिक कार्य, या कोई पहले से रुका हुआ कार्य, यात्रा, स्वर्ण खरीदना, जमीन खरीदना स्थायी रूप से फल देने वाला बताया गया है।

कहा जाता है की पुष्य नक्षत्र को एक शाप भी मिला हुआ है , इसी कारण इस योग में विवाह कार्य वर्जित माने गए है। वैसे तो पुष्यामृत योग बहुत ही शुभ होता है परन्तु यही योग अगर बुधवार और शुक्रवार को पड़े तो कोई भी नया कार्य नहीं करना चाहिए। नीचे दिए गए पुष्यामृत योग को आप अपने शुभ कार्यो के लिए प्रयोग में ला सकते है।

पुष्यामृत योग 2020
दिनांकदिनसमय (घं. मि. बजे से )समय (घं. मि. बजे तक )
11 जनवरी 2020शनिवार13:3030:49
12 जनवरी 2020रविवार6:4911:50
7 फरवरी 2020शुक्रवार24:0130:41
8 फरवरी 2020शनिवार6:4122:05
6 मार्च 2020शुक्रवार10:3830:19
7 मार्च 2020शनिवार6:1909:05
2 अप्रैल 2020गुरूवार19:2829:51
3 अप्रैल 2020शुक्रवार5:5118:41
29 अप्रैल 2020बुधवार26:0229:27
30 अप्रैल 2020गुरूवार5:2725:53
27 मई 2020बुधवार7:2829:21
28 मई 2020गुरूवार5:127:27
23 जून 2020मंगलवार13:3329:13
24 जून 2020बुधवार5:1313:10
20 जुलाई 2020सोमवार21:2129:24
21 जुलाई 2020मंगलवार5:2420:30
17 अगस्त 2020सोमवार6:4429:37
13 सितम्बर 2020रविवार16:3429:47
14 सितम्बर 2020सोमवार5:4915:52
10 अक्टूबर 2020शनिवार25:1829:58
11 अक्टूबर 2020रविवार5:5825:29
7 नवम्बर 2020शनिवार8:0530:15
8 नवंबर 2020रविवार6:158:45
4 दिसंबर 2020शुक्रवार13 :3930:33
5 दिसंबर 2020शनिवार6:3314:28
31 दिसंबर 2020गुरूवार19 :4930:47