Hindi Panchang, Online Muhurat, Astrology Services, Festivals, Vrat Tyohar

पूर्णिमा व्रत 2020, पूर्णिमा तारीख

पूर्णिमा मतलब पूरा चाँद, हिन्दू धर्म के अनुसार पूर्णिमा का विशेष महत्व होता है। हिन्दू धर्म में पूर्णिमा के दिन व्रत करना, पवित्र नदियों में स्नान करना, और विधि विधान से पूजन करना बहुत शुभ माना जाता है।इस दिन कई लोग मंदिरो में जाकर जल चढ़ाते है व पूजन करवाते है। पूर्णिमा के दिन कुछ लोग बंधू-बांधवो सहित भगवान् सत्यनारयण का पूजन व हवन भी करते है।

हर पूर्णिमा का अपना अलग महत्व है क्योंकि लगभग हर पूर्णिमा पर कोई न कोई त्यौहार पड़ता ही है। तो आईये जानते है इस वर्ष कब कब है पूर्णिमा और किस पूर्णिमा पर कौन सा त्यौहार है।

जनवरी पूर्णिमा 2020 (पौष पूर्णिमा )

जनवरी महीने की पूर्णिमा 10 जनवरी 2020 को है। पूर्णिमा का समय 10 जनवरी 2020, शुक्रवार के दिन ,रात 2:34 से शुरू हो कर 11 जनवरी 2020, शनिवार रात 12:50 तक है। पौष पूर्णिमा में शाकंभरी जयंती मनाते है। इस दिन जैन धर्म को मानने वाले पुष्यभिषेक यात्रा प्रारम्भ करते है। इस पूर्णिमा पर पवित्र नदियों में स्नान का विशेष महत्व माना जाता है।

 फरवरी पूर्णिमा 2020 (माघ पूर्णिमा )

फरवरी में पूर्णिमा की तिथि 9 फरवरी 2020  की है। पूर्णिमा 8 फरवरी 2020 दिन शनिवार शाम 4:01से शुरू हो कर 9 फरवरी 2020 दिन रविवार 1:02 तक है। माघ पूर्णिमा संत रविदास जयंती के रूप में मनाई जाती है। इस पूर्णिमा पर संगम पर माघ-मेले में जाना और स्नान करना बहुत मत्वपूर्ण माना जाता है।

मार्च पूर्णिमा २०२० (फाल्गुन पूर्णिमा )

मार्च के महीने में पूर्णिमा 9 मार्च 2020 में है।  9 मार्च 2020 को दिन सोमवार 3:03 से शुरू हो कर 9 मार्च 2020 दिन सोमवार रात 11:17 तक है। फाल्गुन की पूर्णिमा को होली का त्यौहार मनाया जाता है।

अप्रैल पूर्णिमा 2020 (चैत्र पूर्णिमा )

चैत्र पूर्णिमा 7 अप्रैल 2020 को है। पूर्णिमा 7 अप्रैल 2020 दिन मंगलवार रात 12:01 से शुरू है और अगले दिन यानी 8 अप्रैल 2020 दिन बुधवार को 8:04 बजे तक है। चैत्र की पूर्णिमा को हनुमान जयंती मनाई जाती है। इस पूर्णिमा को भगवान हनुमान जी के जन्मदिवस की रूप में मनाया जाता है। इस दिन लोग भगवान हनुमान जी का विधि विधान से पूजन करके भगवान को छप्पन भोग लगाते है।

मई पूर्णिमा 2020 (वैशाख पूर्णिमा )

मई पूर्णिमा 7 मई 2020 को है। यह पूर्णिमा 6 मई 2020 दिन बुधवार को शाम 7:44 पर शुरू है और 7 मई 2020 दिन गुरूवार शाम 4:14 तक है। वैशाख पूर्णिमा को बुध पूर्णिमा और बुध जयंती के रूप में मनाया जाता है। बुध पूर्णिमा बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण मानी जाती है।

जून पूर्णिमा 2020 (ज्येष्ठ पूर्णिमा )

ज्येष्ठ पूर्णिमा की तिथि 5 जून 2020 है। पूर्णिमा दिन शुक्रवार, 5 जून 2020 सुबह 3:15 से आरंभ है अगले दिन शनिवार 6 जून 2020 रात 12:41 तक है। ज्येष्ठ की पूर्णिमा को वट सावित्री व्रत के रूप में पूजा जाता है। यह व्रत सौभाग्य और संतान प्राप्ति में सहायक माना जाता है।

जुलाई पूर्णिमा 2020 (आषाढ़ पूर्णिमा )

आषाढ़ मॉस की पूर्णिमा 4 जुलाई 2020 को है। पूर्णिमा का समय 4 जुलाई 2020 दिन शनिवार सुबह 11:33 पर शुरू होता है और 5 जुलाई 2020 दिन रविवार सुबह 10:13 बजे तक है। आषाढ़ माह की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा भी कहते है।  इस दिन गुरु की पूजा की जाती है। गुरु पूर्णिमा को कबीर जयंती भी मनाई जाती है।

अगस्त पूर्णिमा 2020 (श्रवण पूर्णिमा)

श्रावण माह की पूर्णिमा 3 अगस्त 2020 को है। पूर्णिमा 2 अगस्त 2020 रविवार के दिन रात 9:28 पर शुरू हो कर अगले दिने सोमवार 3 अगस्त 2020 को रात 9:28 तक है। श्रवण माह की पूर्णिमा को रक्षाबंधन का त्यौहार मनाया जाता है।  इस दिन श्रवण मॉस के व्रत भी पुरे हो जाते है।

सितम्बर पूर्णिमा 2020 (भाद्रपद पूर्णिमा )

सितम्बर महीने की पूर्णिमा 1 सितम्बर 2020 को है। भाद्रपद की यह पूर्णिमा 1 सितम्बर 2020 मंगलवार के दिने सुबह 9:38 से आरम्भ है और अगले दिन 2 सितम्बर 2020 बुधवार, सुबह 10:51 तक है। भाद्रपद की पूर्णिमा पर उमा माहेश्वरी व्रत पूजा जाता है। यह व्रत भगवान शिव व पार्वती माता की पूजा के लिए रखा जाता है।

अक्टूबर पूर्णिमा 2020 (अश्विनी अधिक पूर्णिमा )

अश्विनी अधिक पूर्णिमा 1 अक्टूबर 2020, दिन गुरूवार को है। अक्टूबर महीने की यह पूर्णिमा 1 अक्टूबर 2020 रात 12:25 से शुरू हो कर 2 अक्टूबर 2020 रात 2:34 तक है। किसी वर्ष में एक माह अधिक होने से अधिक पूर्णिमा भी होती है. 2020 अधिक माह वाला वर्ष ही है, इसीलिए इसमें अश्विनी अधिक पूर्णिमा है।

अक्टूबर पूर्णिमा 2020 (अश्विनी पूर्णिमा )

अश्विनी व्रत पूर्णिमा 31 अक्टूबर 2020 दिन शनिवार को है। यह पूर्णिमा 30 अक्टूबर 2020 शुक्रवार शाम 5:45 से शुरू हो कर अगले दिन 31 अक्टूबर 2020 शनिवार रात 8:18 तक है। अश्विनी पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा के रूप में भी मनाया जाता है।

नवंबर पूर्णिमा 2020 (कार्तिक पूर्णिमा )

कार्तिक पूर्णिमा 30 नवंबर 2020 सोमवार के दिन है। कार्तिक पूर्णिमा 30 नवंबर 2020 सोमवार को रात 12:47 से आरम्भ हो कर 30 नवंबर २०२० रात 2:59 पर समाप्त है। कार्तिक पूर्णिमा को गुरु नानकदेव जी की जन्मदिवस के रूप में मनाया जाता है। यह दिन सिक्खो के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है।  कार्तिक पूर्णिमा को पुष्कर मेला भी लगता है।

दिसंबर पूर्णिमा 2020 (मार्गशीर्ष पूर्णिमा )

दिसंबर की पूर्णिमा 29 दिसंबर 2020 को है। मार्गशीर्ष पूर्णिमा 29 दिसंबर 2020 मंगलवार सुबह 7:54 से शुरू हो कर 30 दिसंबर 2020 बुधवार 8:57 तक है।  मार्गशीर्ष पूर्णिमा को श्री दत्तात्रेय जयंती मनाई जाती है।