Hindi Panchang, Online Muhurat, Astrology Services, Festivals, Vrat Tyohar

प्रदोष व्रत 2020, कब करें प्रदोष व्रत 2020 में ?

प्रदोष व्रत 2020, प्रदोष व्रत कब है 2020 में?, कब करें प्रदोष व्रत?, कैसे करे प्रदोष व्रत?, प्रदोष व्रत का महत्व, प्रदोष व्रत करने के लाभ

प्रदोष व्रत में शिवजी जी की उपासना व पूजा की जाती है। हिन्दू धर्म के अनुसार यह व्रत बहुत ही महत्वपूर्ण एवं लाभकारी है।

यह  व्रत हिन्दू कैलेंडर के अनुसार त्रयोदशी के दिन किया जाता है।

प्रदोष व्रत करने की विधि

  •  प्रदोष व्रत करने के लिए त्रयोदशी वाले दिन प्रातः सूर्योदय से पूर्व उठकर स्नानादि से  निर्वित हो।
  • इस व्रत में व्रती का सफ़ेद कपड़े पहनना शुभ माना जाता है।
  • यह व्रत निराहार रखा जाता है।
  • सांयकाल के समय शिवालय जाये या फिर घर पर ही पूजास्थान पर बैठे।
  • भगवान शंकर का ध्यान करते हुए, व्रत कथा और आरती पढ़नी चाहिए।
  • भगवान शिव का दूध और जल से अभिषेक करें।
  • पूजा में शिवजी जी को फल, फूल, धतूरा, बिल्वपत्र और ऋतुफल अर्पित करें।
  • प्रदोष व्रत में अपने सामर्थ्य अनुसार किसी ब्राह्मण को भोजन करवाकर दान दक्षिणा देनी चाहिए।
  • इस व्रत में भोजन करना निषेध है।
  • फिर भी व्रति अपनी यथा शक्तिअनुसार संध्याकाल के पूजन के बाद सात्विक भोजन या फलाहार ले सकता है।

 प्रदोष व्रत करने के लाभ 

  • शास्त्रों में कहा गया है के इस व्रत को श्रद्धा भाव करने से अतिशीघ्र कार्यसिद्धि होकर अभीष्ट फल की प्राप्ति होती है।
  • इस व्रत को करने से जीवन के सभी कष्ट दूर होते है और सहस्त्र गोदान का पुण्य प्राप्त होता है।
  • प्रदोष व्रत को करने से शिवजी जी की विशेष कृपा प्राप्त होती है।
  • वैसे तो सभी प्रदोष व्रत फलदायी और शुभ है, पर हर प्रदोष व्रत का वार के हिसाब से अलग फल होता है।
  • सोम प्रदोष व्रत आरोग्य और आयु वृद्धि  प्रदान करता है।
  • शनि प्रदोष व्रत संतान प्राप्ति के लिए बहुत शुभ माना जाता है।
  • बुध प्रदोष व्रत सभी मनोकामनाओ को पूरा करने वाला होता है।

तो आइये जानते है इस वर्ष प्रदोष व्रत कब कब है। 

माह और पक्ष 

दिनांक 

दिन 

पौष शुक्ल पक्ष8 जनवरी 2020बुधवार
माघ कृष्ण पक्ष22 जनवरी 2020बुधवार
माघ शुक्ल पक्ष7 फरवरी 2020शुक्रवार
फाल्गुन कृष्ण पक्ष20 फरवरी 2020गुरुवार
फाल्गुन शुक्ल पक्ष7 मार्च 2020शनिवार
चैत्र कृष्ण पक्ष21 मार्च 2020शनिवार
चैत्र शुक्ल पक्ष5 अप्रैल 2020रविवार
वैशाख कृष्ण पक्ष20 अप्रैल 2020सोमवार
वैशाख शुक्ल पक्ष5 मई 2020मंगलवार
ज्येष्ठ कृष्ण पक्ष20 मई 2020बुधवार
ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष3 जून 2020बुधवार
आषाढ़ कृष्ण पक्ष18 जून 2020शनिवार
आषाढ़ शुक्ल पक्ष2 जुलाई 2020गुरुवार
श्रावण कृष्ण पक्ष18 जुलाई 2020शनिवार
श्रावण शुक्ल पक्ष1 अगस्त 2020शनिवार
भाद्रपद कृष्ण पक्ष16 अगस्त 2020रविवार
भाद्रपद शुक्ल पक्ष30 अगस्त 2020रविवार
शुद्ध आश्विन कृष्ण पक्ष15 सितम्बर 2020मंगलवार
अधिक आश्विन शुक्ल पक्ष29 सितम्बर 2020मंगलवार
अधिक आश्विन कृष्ण पक्ष14 अक्टूबर 2020बुधवार
शुद्ध आश्विन शुक्ल पक्ष28 अक्टूबर 2020बुधवार