मई 2020-पंचांग और कैलेंडर, शुभ तिथियां और व्रत

0

मई 2020-पंचांग और कैलेंडर, शुभ तिथियां और व्रत, ज्येष्ठ संक्रांति फल, एकादशी व्रत, अमावस्या, पूर्णिमा, प्रदोष व्रत, गणेश चतुर्थी,  लोक भविष्य, राशिफल, वट सावित्री व्रत, रम्भा तीज व्रत

इस लेख हम मई माह 2020 के बारे में जानेंगे के कब कब है व्रत व् त्यौहार ? मई 2020 में कब आने वाली है पूर्णिमा और अमावस्या ?

एकादशी व्रत मई 2020 

  • 3 मई 2020, रविवार के दिन, मोहिनी एकादशी व्रत (स्मार्त) है।
  • मोहिनी एकादशी व्रत (वैष्णव) 4 मई 2020, सोमवार को है।
  •  मोहिनी एकादशी व्रत सब पापों को हरने वाला उत्तम वृत्त है।
  • इस व्रत के प्रभाव से मनुष्य मोहजाल तथा पातक-समूह से छुटकारा पाया जाता है।
  • भगवान श्री रामचंद्र जी ने इस व्रत को सीता जी के खोज करते समय किया था।
  • 18 मई 2020 सोमवार को अपरा (भद्रकाली) एकादशी व्रत है।
  • इस व्रत को करने से ब्रह्म हत्या, गौहत्या, गर्भस्थ शिशु को मरने वाले, परनिंदक निश्चय ही पापरहित हो जाता है।

प्रदोष व्रत मई 2020

  • 5 मई 2020, मंगलवार
  • 20 मई 2020 , बुधवार
  • प्रदोष व्रत में शिवपूजन करके प्रदोष स्तोत्र का पाठ करके रुद्राभिषेक करना चाहिए।

श्री सत्यनारायण व्रत मई 2020

  •  6 मई 2020, बुधवार

पूर्णिमा मई 2020

  • 7 मई 2020 , दिन गुरूवार को वैशाख पूर्णिमा है।
  • वैशाख पूर्णिमा के दिन वैशाख स्नान की सम्पूर्ति होगी।
  • तीर्थ स्थान, भगवान श्री विष्णु जी का ध्यान, स्मरण एवं जप-दानादि का विशेष महात्त्म्य होता है।
  • इसी दिन श्री बुध्द जयन्त्ती भी मनाई जाएगी।

श्री गणेश चतुर्थी व्रत मई 2020

  • 10 मई 2020 , दिन रविवार को गणेश चाठृठी का व्रत किया जाएगा।

ज्येष्ठ संक्रांति मई 2020

  • 14 मई 2020 दिन गुरूवार, ज्येष्ठ कृष्ण पक्ष, सप्तमी तिथि पर अष्टमी, धनिष्ठा नक्षत्र शाम 5:16 पर तुला लग्न में प्रवेश करेगी।
  • 30 मुहूर्त्ति इस संक्रांति का पुण्यकाल प्रातः 10:52 के बाद प्रारम्भ होगा।
  • वारानुसार नन्दा तथा नक्षत्रानुसार महोदरी नामक यह संक्रांति ब्राह्मणो के लिए लाभप्रद रहेगी।
  • बृहस्पतिवार की संक्रांति होने से देश में धर्म-कर्म का आचरण बढ़े।
  • अनाज की पैदावार अच्छी हो तथा लोगों में सुख-साधनो का विष्टर हो।

अमावस्या मई 2020

  • 22 मई 2020 शुक्रवार के दिन अमावस है।
  • इस अमावस्या पर श्री गङ्गादि तीर्थो पर स्नान-दान-जप-तप, पितृ पूजन, ब्राह्मण भोजनादि कृत्यों का विशेष पुण्यप्रदफल एवं माहात्म्य होता है।
  • इसी दिन शनैश्चर जयंती भी मनाई जाएगी।

वटसावित्री व्रत मई 2020

  •  22 मई 2020 शुक्रवार को वट सावित्री व्रत भी है।
  • यह व्रत स्त्रियों के वैधव्यादि दोषों की निवृत्ति एवं पति-पुत्रादि सुख-सौभाग्य की प्राप्ति के लिए विशेष प्रशस्त होता है।

रम्भा तृतीया व्रत मई 2020

  • 25 मई 2020, सोमवार के दिन रम्भा तीज व्रत है।
  • यह व्रत स्त्रियाँ घर में सुख, समृद्धि और पुत्रादि सुखों में वृद्धि करने के लिए किया जाता है।
  • माता पार्वती का जन्म भी इसी तिथि को हुआ था।

लोक भविष्य मई 2020

  • संक्रांति कुंडली में कालसर्प योग बना हुआ है और गुरु-शनि का योग मकर राशि में होने से लोग पाप एवं कुटिल-बुद्धि वाले हो जायेंगे।
  • विश्व में युद्ध-भय से वातावरण अशांत एवं असमंजसपूर्ण बन जायेगा।
  • घी, दूध, तेल, जल आदि दैनिक उपभोग्य वस्तुओं में विशेष तेजी बन जाएगी।
  • चान्द्र ज्येष्ठ मास में पांच शुक्रवार आने से ग्रीष्म उपयोगी फसलों का अच्छा उत्पादन हो।
  • अधिकांश अमीर लोग भोगविलासादि कार्यों में प्रवृत्त होंगे।
  • जनसँख्या में वृद्धि होगी।

राशिफल मई 2020

  • यह संक्रांति मेष, कर्क, सिंह, तुला, वृश्चिक, मकर व कुम्भ राशि वालों के लिए विशेष लाभकारी रहेगी।
  • शेष राशि वालों के लिए कुछ मानसिक कष्ट रहेगा।

नारद जयंती मई 2020

  • 9 मई 2020, शनिवार नारद जयंती है।
  • इस दिन वीणादान विशेष माहात्म्य होता है।