4 नवंबर 2021 का पंचांग और मुहूर्त

0

Aaj Ka Panchang In Hindi, Today Panchang In Hindi, Online Hindi Panchang for 4 November 2021, Today Tithi 4 November 2021, Aaj ka Panchang, Aaj ka Muhurat, Aaj ka Shubh Samay, Shubh and Ashubh Muhurat, Auspicious time, Muhurat Timing, Choghadiya Muhurat for 4 November.

किसी भी कार्य को करने से पहले शुभ मुहूर्त, शुभ समय, अशुभ समय का विशेष ध्यान रखा जाता है ताकि कार्य शुभ हो। अगर आप पंचांग देखकर शुभ कार्य को करते हैं तो आपका कार्य बिना किसी कठिनाई के संपन्न होगा और फलेगा, सफलता मिलेगी।

4 November 2021 panchang: आज का पंचांग कैसा है शुभ कार्य करने के लिए 4 नवंबर 2021, बृहस्पतिवार

आज दिनांक 4 नवंबर 2021 तिथि, नक्षत्र, सूर्योदय, सूर्यास्त, शुभ समय कब से कब तक है, अशुभ समय कब है, राहु काल की जानकारियां, आज का पर्व त्यौहार नवंबर ४, २०२१ पंचांग और शुभ मुहूर्त की विस्तृत जानकारियां।

बृहस्पतिवार, 4 नवंबर 2021 का पंचांग

तिथिअमावस्या 02:44 AM, Nov 05 तक
नक्षत्रचित्रा 07:43 AM तक उसके बाद स्वाती 05:08 AM, Nov 05 तक
पक्षकृष्ण पक्ष
माहकार्तिक
सूर्योदय06:08 AM
सूर्यास्त05:15 PM
चंद्रोदयचन्द्रोदय नहीं
चन्द्रास्त05:00 PM

Auspicious Timings : आज का शुभ समय जिसमे शुभ मुहूर्त किया जा सकता है। आज दिनांक बृहस्पतिवार 4 नवंबर 2021 का शुभ टाइम। अगर कोई शुभ कार्य करने जा रहे हैं तो अभिजीत समय में करें। उसके बाद अन्य में कर सकते हैं जब अभिजीत का समय नहीं हो तो।

अभिजीत मुहूर्त11:19 AM से 12:04 PM
अमृत काल मुहूर्त09:16 PM से 10:42 PM
विजय मुहूर्त01:33 PM से 02:17 PM
गोधूलि मुहूर्त05:04 PM से 05:28 PM
सायाह्न संध्या मुहूर्त05:15 PM से 06:32 PM
निशिता मुहूर्त11:16 PM से 12:07 AM, Nov 05
ब्रह्म मुहूर्त04:25 AM, Nov 05 से 05:17 AM, Nov 05
प्रातः संध्या04:51 AM, Nov 05 से 06:08 AM, Nov 05

Inauspicious Timings : आज का अशुभ समय जिसमे शुभ कार्य नहीं किया जा सकता है। आज दिनांक बृहस्पतिवार 4 नवंबर 2021 का अशुभ समय।

दुष्टमुहूर्त09:50:04 से 10:34:37 तक, 14:17:22 से 15:01:55 तक
कालवेला / अर्द्धयाम15:46:28 से 16:31:01 तक
गुलिक काल08:54:23 से 10:17:55 तक
यमगण्ड06:07:19 से 07:30:51 तक
भद्राकोई नहीं है
गण्ड मूलकोई नहीं है

विशेष मुहूर्त और योग : 

कुछ शुभ मुहूर्त होते हैं जैसे सर्वार्थसिद्धि, अमृतसिद्धि, गुरुपुष्यामृत और रविपुष्यामृत योग। जब किसी कार्य को करना हो और मुहूर्त उस समय नहीं हो तो इन विशेष योग या महूर्त में शुभ कार्य किया जाता है।

यदि सोमवार के दिन रोहिणी, मृगशिरा, पुष्य, अनुराधा तथा श्रवण नक्षत्र हो तो सर्वार्थसिद्धि योग का निर्माण होता है। शुभ मुहूर्तों में सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त माना जाता है- गुरु-पुष्य योग। यदि गुरुवार को चन्द्रमा पुष्य नक्षत्र में हो तो इससे पूर्ण सिद्धिदायक योग बन जाता है। जब चतुर्दशी सोमवार को और पूर्णिमा या अमावस्या मंगलवार को हो तो सिद्धिदायक मुहूर्त होता है।

आज का शुभ योग जिसमे कोई भी मुहूर्त किया जा सकता है। ये योग बहुत ही शुभ होते है किसी भी शुभ कार्य को करने के लिए।

Shubh Muhurat – 4 November 2021

अभिजीत मुहूर्त11:19 AM से 12:04 PM
सर्वार्थ सिद्धि योगकोई नहीं है
अमृत सिध्दि योगकोई नहीं है
रवि योगकोई नहीं है
द्विपुष्कर योगकोई नहीं है
त्रिपुष्कर योगकोई नहीं है

आज का व्रत / पर्व त्यौहार नवंबर ४, २०२ हिंदू पंचांग और कैलेंडर के अनुसार

नरक चतुर्दशी, तमिल दीपावली, दीवाली, लक्ष्मी पूजा, दीपमालिका, केदार गौरी व्रत, चोपड़ा पूजा, शारदा पूजा, काली पूजा, कमला जयंती, कार्तिक अमावस्या, दर्श अमावस्या, अन्वाधान

Leave a comment