Browsing Category

रत्न विज्ञान

मूंगा (Coral) धारण करने का मंत्र, मूंगा धारण करने के फायदे और विधि

मूंगा क्या है? मूंगा मंगल ग्रह का रत्न है। यह लाल रंग, गरुआ रंग एवं सिंदूरी रंग का होता है। कुंडली में मंगल ग्रह का प्रभाव हो तो इस रत्न को धारण करना अत्यंत लाभकारी होता है। वैदिक ज्योतिष के मुताबिक मूंगा रत्न मंगल ग्रह का रत्न होता है। मुख्य रूप से जापान और इटली के समुद्र में पाया जाने वाला मूंगा बहुत बेहतर होता है। यदि व्यक्ति की जन्म कुंडली में मंगल अच्छे प्रभाव दे रहा है तो मूंगा अवश्य पहनना चाहिए। इसके अलावा कुंडली में मंगल के कमज़ोर होने की स्थिति में मूंगा धारण करना चाहिए ऐसा करने से उसे बल दिया जा सकता है। इस रत्न…

मोती धारण करने का मंत्र, मोती धारण करने के फायदे और विधि

मोती क्या है? मोती चंद्रमा का रत्न है। यह चिकना, चमकदार और दुधिया रंग का होता है। इस रत्न को धारण करना बहुत ही फलदायी होता है। कुंडली में यदि चंद्र का शुभ प्रभाव हो तो जातक को मोती अवश्य धारण करना चाहिए। क्योंकि चंद्र मनुष्य के मन को दर्शाता है और चंद्र का प्रभाव पूरी तरह से मनुष्य की सोच पर पड़ता है। मन की स्थिरता को बनाए रखने के लिए मोती धारण करना अत्यंत लाभकारी होता है। इस रत्न को धारण करने से माँ के परिवार से अच्छे संबंध रहते है और लाभ भी मिलता है। साथ ही व्यक्ति के आत्मविश्वास में भी बढोत्तरी होती है। मोती को धारण करने…

नीलम स्टोन धारण करने की विधि और मन्त्र

नीलम रत्न शनि गृह का प्रतिनिधि रत्न है, यह एक अत्तयंत प्रभावशाली रत्न होता है। शनि ग्रह के बुरे प्रभाव और पीड़ा शांत करने के लिए नीलम (Neelam) या नीला पुखराज धारण करना चाहिए। नीलम को हीरे के बाद दूसरा सबसे सुंदर रत्न माना जाता है। इसे नीलमणि, सेफायर, इंद्र नीलमणि, याकूत, नीलम, कबूद भी कहा जाता है। कहा जाता है कि यह रत्न रंक को राजा और राजा को रंक बना सकता है। आप किसी अच्छे विद्वान् से दिखाकर ही नीलम धारण करें, जिसके कुंडली में शनि का प्रकोप है उसको ही नीलम धारण करनी चाहिए। नीलम धारण करने की विधि:- नीलम शनिवार के दिन धारण…