Ultimate magazine theme for WordPress.
Browsing Category

पूजन विधि

Chhath Puja Kartik 2018, छठ पूजा 2018 कब है?

Chhath Puja Vidhi, Chath Puja Dates 2018, Chhath Kab hai, छठ २०१८, षष्ठी छठ, छठ पूजा 2018 की तारीख, कब है छठ, पहला अर्ध्य कब है, लोहंडा कब है, खरना कब है, तिथि छठ पूजा की, 2018 छठ पूजा की जानकारियां हिंदी में छठ महोत्सव 2018, Chhath…

तुलसी पूजा के नियम : घर में तुलसी है तो जरूर करें इन नियमों का पालन

तुलसी पूजा के नियम, तुलसी की पूजा कैसे करें, तुलसी की पूजा किस तरह करनी चाहिए, रविवार को तुलसी पूजा, तुलसी पूजा कब है, तुलसी की पूजा क्यों की जाती है, तुलसी की पूजा करने के फायदे, तुलसी को जल देने की विधि, रविवार को तुलसी में पानी क्यों…

शिवलिंग की पूजा कैसे करें

शिवलिंग दो शब्दों से मिलकर बना है शिव और लिंग। शिव का अर्थ होता है परम कल्याणकारी और लिंग का अर्थ होता है निर्माण या सृजन। शिव, भोलेबाबा, देवो के देव, भोलेशंकर, और भी कितने नाम से इन्हे जाना जाता है। भोलेबाबा को वेदो में रूद्र के नाम से…

गुप्त नवरात्रि शुभ मुहूर्त 2018, पूजा विधि और महत्व

Gupt Navratri 2018 : आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि की माँ दुर्गा को समर्पित गुप्त नवरात्रि प्रारंभ हो रही है। ऐसे तो साल में चार बार नवरात्रि का पर्व मनाया जाता है लेकिन उनमे से 2 बड़े पैमाने पर मनाई जाती है और 2 गुप्त रूप से।…

संध्या के समय घर में दीपक जलाने और पूजा पाठ के फायदे

हमारे देश में कई धर्मों को मानने वाले लोग रहते है और सभी धर्मों में पूजा करने के अपने अपने नियम है। हिन्दू धर्म में तो दीपक जलाने का एक महत्वपूर्ण स्थान है। बिना दीपक जलाये पूजा अधूरी मानी जाती है। पूजा का पूरा फल पाने के लिए हमें पूरे विधि…

वट सावित्री (वर पूजा) पूजा की थाली में क्या क्या रखें, पूजन सामग्री वट सावित्री

वट सावित्री व्रत हिन्दू धर्म के महत्वपूर्ण व्रतों में से एक है जिसे सौभाग्य और संतान की प्राप्ति के लिए किया जाता है। वट सावित्री व्रत स्त्रियाँ अपने पति की लंबी आयु और संतान के कुशल भविष्य के लिए रखती है। वट सावित्री व्रत 2018…

अष्टमी पूजन 2018 : ऐसे तैयारी और पूजन करें क्या खास है 25 मार्च 2018 को?

माँ दुर्गा का पूजन आपलोग बड़े ही श्रधा भाव से कर रहे होंगे। माता रानी आपकी मनोकामना जरुर पूरी करेंगी। नवरात्री में जो सबसे इंतज़ार करने का जो दिन होता है वो है पहला पूजा यानी की कलश स्थापना और फिर अष्टमी को क्योंकि इस दिन कुंवारी कन्या को…