Ultimate magazine theme for WordPress.

दिवाली पर मंत्रों से करें माँ लक्ष्मी की पूजा, दीपावली पर धन प्राप्ति के उपाय

दिवाली लक्ष्मी पूजा का विशेष मंत्र

दिवाली लक्ष्मी पूजा मंत्र, दिवाली पर धन प्राप्ति के मंत्र, दिवाली पर मंत्रो से करें माँ लक्ष्मी की पूजा, दीपावली स्पेशल मंत्र, दिवाली लक्ष्मी पूजा का विशेष मंत्र, धन प्राप्ति का अचूक मंत्र, लक्ष्मी पूजा कैसे करें दिवाली पर, दीपावली पर लक्ष्मी को प्रसन्न करने का मंत्र, धनतेरस पर लक्ष्मी पूजन, Dhan pane ke achuk upay, Dhan prapti ke mantra, Diwali par dhan pane ke mantra, Lakshmi Puja Mantra Deepawali, Diwali Lakshmi Pujan Mantra in Hindi


दिवाली पर धन प्राप्ति के अचूक उपाय

कार्तिक महीने के कृष्ण पक्ष की पंद्रहवीं तिथि अमावस्या को दीपावली का पर्व मनाया जाता है। जिसे सभी जगह बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता है। दिवाली पर माँ लक्ष्मी, देवी सरस्वती, भगवान गणेश और कुबेर देव का पूजन किया जाता है। जबकि कुछ क्षेत्रों में इस दिन काली पूजा मनाई जाती है जिसमे माँ काली का पूजन किया जाता है।

दिवाली को खास पर्व इसलिए भी कहा जाता है, क्यूंकि इस दिन माँ लक्ष्मी की खास पूजा से साल भर धन की कोई कमी नहीं रहती और माँ लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है। इतना ही नहीं बुद्धि, ज्ञान, विद्या और रिद्धि-सिद्धि की प्राप्ति के लिए भी इस दिन उपाय करना लाभकारी होता है। यहाँ हम कुछ खास मंत्र दे रहे हैं, जिनका प्रयोग आपको दिवाली के दिन और उसके बाद करना हैं।

माँ लक्ष्मी का पूजन

हिन्दू ग्रंथों में माँ लक्ष्मी को चंचल स्वभाव का बताया गया है इसलिए इन्हे देवी चंचला भी कहा जाता है। देवी लक्ष्मी के चंचल स्वभाव के कारण वे कभी किसी एक स्थान पर या एक व्यक्ति के पास नहीं ठहरती। इसीलिए दिवाली के दिन लक्ष्मी पूजन का खास महत्व बताया जाता है। इसके साथ-साथ इस दिन श्रीयंत्र के पूजन का भी विधान है, जिसे लक्ष्मी प्राप्ति के लिए बहुत शुभ माना जाता है।

स्थिर लग्न में लक्ष्मी पूजन

दिवाली के दिन लक्ष्मी पूजन हमेशा शुभ और स्थिर लग्न में करने की सलाह दी जाती है। क्यूंकि माना जाता है माँ लक्ष्मी का पूजन सदैव स्थिर लग्न में करना चाहिए इससे माँ लक्ष्मी घर में स्थाई निवास करती हैं।

चर लग्न में लक्ष्मी पूजन

लक्ष्मी पूजन कभी भी चर लग्न में नहीं करना चाहिए, ऐसा करने से लक्ष्मी शीघ्र चलायमान होती है जबकि द्विस्वभाव लग्न में लक्ष्मी पूजा करने से लक्ष्मी का घर में आना-जाना लगा रहता है। इसीलिए सभी मुहूर्त में स्थिर लग्न में दिवाली लक्ष्मी पूजन करना श्रेष्ठ माना जाता है।

दिवाली के दिन लक्ष्मी पूजन का मंत्र

माँ लक्ष्मी की कृपा पाने के लिए मन और शरीर को शुद्ध करके माँ के इस मंत्र का जप करें, “ऐं ह्रीं श्रीं ज्येष्ठा लक्ष्मी स्वयंभुवे ह्रीं ज्येष्ठायै नमः”। यह मंत्र ज्येष्ठ लक्ष्मी का मंत्र है। इस मंत्र का सवा लाख बार जप करने से यह मंत्र सिद्ध हो जाता है और अपार धन की प्राप्ति होती है।


पुरे साल भर माँ लक्ष्मी की स्थाई कृपा पाने के लिए दीपावली के दिन से शुरू करके अगली दीपावली तक, “नमो धनदायै स्वाहा” मंत्र का कप करना होगा। इस मंत्र का 1008 बार जप करने से धन-संपदा की प्राप्ति होगी। मंत्र जपने के लिए कमलगट्टे की माला श्रेष्ठ रहेगी।


मनवांछित फल की प्राप्ति के लिए माँ लक्ष्मी के “श्रीं ह्रीं स्वाहा” मंत्र को एक लाख बार लिखें। इस मंत्र को 70 बजार बार लिखने से धन की प्राप्ति होगी, 50 हजार बार लिखने से कार्य सिद्ध हो जाता है और 30 हजार बार लिखने से कोई हुई समृद्धि और प्रतिष्ठा वापस मिल जाती है।


दिवाली के दिन लक्ष्मी पूजन से आरंभ करके प्रतिदिन माँ लक्ष्मी के “ऐं ह्रीं श्रीं श्रीयै नमो भगवति मम समृद्धौ ज्वल-ज्वल मां सर्व संपदां देहि-देहि मम अलक्ष्मीं हुं फट् स्वाहा” मंत्र का जप करें। प्रतिदिन 1008 बार इस मंत्र का जप करने से धन प्राप्ति होगी।

अपने मन, ह्रदय और शरीर को पूरी तरह शुद्ध करके दिवाली के दिन माँ लक्ष्मी के इन मंत्रो का जाप करें, माँ लक्ष्मी की कृपा सदैव बनी रहेगी और घर में लक्ष्मी का स्थाई निवास होगा।