हरी वासर

0

हरी वासर द्वादशी तिथि की पहली एक चौथाई अवधि होती है। जिसमे व्रत का पारण या अन्य शुभ कार्य करना वर्जित माना जाता है।