Ultimate magazine theme for WordPress.

गृह प्रवेश 2019 : गृह प्रवेश का मुहूर्त तिथि समय नक्षत्र के अनुसार

Griha Pravesh Shubh Muhurat 2019, गृह प्रवेश 2019 गृह प्रवेश मुहूर्त 2019 शुभ दिन गृह प्रवेश के लिए 2019 के महीनों में

Griha Pravesh 2019

New House Puja Ceremony Dates, Griha Pravesh Puja Vidhi, Date to Perform Puja for New Griha Pravesh in 2019, Housewarming Ceremony, Griha Pravesh Muhurat, Griha Pravesh Muhurat Calculator, Housewarming Muhurat, Griha Pravesh Dates in 2019 As per Hindu panchang & Hindu Calendar 2019

Griha Pravesh : गृह प्रवेश शुभ मुहूर्त में क्यों किया जाता है?

धार्मिक शास्त्रों के अनुसार, प्रत्येक मांगलिक कार्य को करने के लिए शुभ मुहूर्त का होना अनिवार्य होता है। बिना मुहूर्त देखे कोई भी काम करना शुभ नहीं माना जाता। ऐसा करने से उस काम में सफलता नहीं मिलती और केवल हानि होती है। गृह प्रवेश भी मांगलिक कार्यों में से एक है जिसे शुभ मुहूर्त में करना जरुरी होता है। नियमानुसार, बिना मुहूर्त देखें किसी भी समय नए घर में गृह प्रवेश करना जातक और उसके परिवार के लिए शुभ नहीं होता। गलत मुहूर्त में किया गया गृह प्रवेश गृह कलेश और विपत्तियों का कारण बनता है। इसलिए गृह प्रवेश सदैव पंचांग और मुहूर्त देखकर ही करना चाहिए।

अपने नाम, जन्म तिथि, जन्म समय, और राशि के अनुसार अगर गृह प्रवेश किया जाए तो सुख-समृद्धि और खुशियां आती हैं नए घर में। मात्र 251 के डोनेशन पर आपके लिए आपके अनुसार गृह प्रवेश का शुभ मुहूर्त निकालने के लिए नीचे Pay Now पर क्लिक कर डोनेट करें उसके बाद फॉर्म खुलेगा अपनी डिटेल्स भरें आपको मेल के द्वारा जल्द से जल्द मुहूर्त भेजा जाएगा। सेवा का मौका अवश्य दें।

Griha Pravesh Muhurat 2019 Month, Day, Nakshatra And Tithi

17 अप्रैल 2019बुधवारउत्तराफाल्गुनीत्रयोदशी
19 अप्रैल 2019शुक्रवारचित्रापूर्णिमा
20 अप्रैल 2019शनिवारस्वातीप्रतिपदा
26 अप्रैल 2019शुक्रवारउत्तराषाढ़सप्तमी
29 अप्रैल 2019सोमवारशतभिषादशमी
6 मई 2019 (सोमवार)16:37 से 29:40+रोहिणीद्वितीया, तृतीया
16 मई 2019 (गुरुवार)08:15 से 28:17+ चित्रात्रयोदशी
23 मई 2019 (गुरुवार)05:30 से 28:18+उत्तरा आषाढ़पंचमी
29 मई 2019 (बुधवार)05:28 से 29:28+उत्तर भाद्रपददशमी, एकादशी
30 मई 2019 (गुरुवार)05:28 से 16:37रेवतीएकादशी
12 जून 2019 (बुधवार)11:51 से 29:26+चित्रादशमी, एकादशी
13 जून 2019 (गुरुवार)05:26 से 10:55चित्राएकादशी
15 जून 2019 (शनिवार)10:00 से 14:33अनुराधात्रयोदशी
19 जून 2019 (बुधवार)13:30 से 29:27+उत्तरा आषाढ़द्वितीया, तृतीया
20 जून 2019 (गुरुवार)05:27 से 15:40उत्तरा आषाढ़तृतीया
30 अक्टूबर 2019 (बुधवार)06:35 से 21:59अनुराधातृतीया
2 नवंबर 2019 (शनिवार)25:31+ से 30:38+उत्तरा आषाढ़सप्तमी
9 नवंबर 2019 (शनिवार)14:39 से 30:43+रेवतीत्रयोदशी
13 नवंबर 2019 (बुधवार)22:01 से 30:46+रोहिणीद्वितीया
14 नवंबर 2019 (गुरुवार)06:46 से 30:47+रोहिणी, मृगशिराद्वितीया, तृतीया
15 नवंबर 2019 (शुक्रवार)06:47 से 19:45मृगशिरातृतीया
21 नवंबर 2019 (गुरुवार)18:30 से 30:52+उत्तरा फाल्गुनीदशमी
22 नवंबर 2019 (शुक्रवार)06:52 से 16:41उत्तरा फाल्गुनीदशमी, एकादशी
30 नवंबर 2019 (शनिवार)18:04 से 31:00+उत्तरा आषाढ़पंचमी
6 दिसंबर 2019 (शुक्रवार)07:04 से 31:04+उत्तरा भाद्रपद, रेवतीदशमी
7 दिसंबर 2019 (शनिवार)07:04 से 25:28+रेवतीएकादशी
12 दिसंबर 2019 (गुरुवार)10:42 से 30:19+मृगशिराप्रतिपदा

संक्षिप्त जानकारियां गृह प्रवेश के लिए

गृह प्रवेश कब करें? गृह प्रवेश कैसे करें? गृह प्रवेश कब शुभ होता है? और कितने प्रकार के गृह प्रवेश होते हैं? क्यूंकि नए मकान में जाने के लिए अलग मुहूर्त होता है और पुराने मकान को तोड़कर उसी स्थान पर नया मकान बनाकर उसमे गृह प्रवेश करने का मुहूर्त अलग होता है। और भी बातें जो आपको ध्यान रखनी है वो नीचे दे रहे हैं।

गृह प्रवेश कितने प्रकार का होता है?

सामान्यतः गृह प्रवेश दो प्रकार का होता है।

1. नूतन गृह प्रवेश

जब कोई जमीन खरीदकर उस पर नींव से लेकर छत तक नया मकान बनवाता है या नई बिल्डिंग में कोई नया फ्लैट खरीदता है। और उसमे गृह प्रवेश करता है तो उसे नूतन गृह प्रवेश कहा जाता है। नये फ्लैट में इंटीरियर करवाकर उसमे गृह प्रवेश करने को भी नूतन गृह प्रवेश कहा जाता है।

2. जीर्ण गृह प्रवेश

किसी भी बने-बनाए मकान को तुड़वाकर दोबारा से बनवाता है तो उसे जीर्ण गृह कहा जाता है। क्यूंकि उस मकान की नींव पहले से ही बनी हुई होता है केवल छत तोड़कर दोबारा मकान बनवाया जाता है। या किसी पुराने फ्लैट को खरीदकर उसमे तोड़-फोड़ करवाकर दोबारा से निर्माण करवाने पर वो फ्लैट भी जीर्ण गृह हो जाता है। ऐसे घर में गृह प्रवेश करने को जीर्ण गृह प्रवेश कहते हैं।

कौन-से महीने में गृह प्रवेश किया जाता है?

मुहूर्त चक्र के अनुसार, वैशाख, सावन, कार्तिक, मार्गशीर्ष, माघ, फाल्गुन माह में गृह प्रवेश करना अत्यंत शुभ माना जाता है। इन महीनों में गृह प्रवेश करने से नए घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है।

नूतन गृह प्रवेश की तिथि और वार क्या होना चाहिए?

मुहूर्त चक्र के अनुसार, महीने की द्वितीया, तृतीया, पंचमी, षष्ठी, सप्तमी, दशमी, एकादशी, द्वादशी और त्रयोदशी तिथि गृह प्रवेश करने के लिए शुभ होती है। गृह प्रवेश करने के लिए शुभ वार सोमवार, बुधवार, गुरुवार, शुक्रवार और शनिवार हैं। इन दिनों में गृह प्रवेश करना शुभ होता है।

किस नक्षत्र में गृह प्रवेश किया जाता है?

शास्त्रों के अनुसार, उत्तरा भाद्रपद, उत्तरा फाल्गुनी, उत्तरा आषाढ़, रोहिणी, मृगशिरा, चित्रा, अनुराधा और रेवती आदि नक्षत्रों में गृह प्रवेश करना अत्यंत शुभ होता है। इसके अलावा अन्य नक्षत्रों में भी गृह प्रवेश किया जा सकता है लेकिन उस दिन शुभ मुहूर्त होना अनिवार्य है।

कब गृह प्रवेश नहीं करना चाहिए?

हिन्दू पंचांग में कुछ ऐसे अशुभ दिन होते हैं जिनमे गृह प्रवेश करना बिलकुल भी अच्छा नहीं होता। इन दिनों में गृह प्रवेश करने से दुःख और दरिद्रता आती है। इसीलिए भूलकर भी इन दिनों में गृह प्रवेश नहीं करना चाहिए।

  • अधिक मास (वर्ष में एक मास अधिक होने पर)
  • मलमास या खरमास (सूर्य जब धनु और मीन राशि में जाता है)
  • चातुर्मास (चार महीने की अवधि जब देव सो जाते हैं)
  • श्राद्ध पक्ष (पितरों के लिए)
  • पंचक (पांच अशुभ नक्षत्र)
  • दक्षिणायन (सूर्य जब दक्षिण दिशा की ओर होता है)
  • होलाष्टक आदि दिनों में गृह प्रवेश नहीं करना चाहिए।

गृह प्रवेश मुहूर्त चक्र

नक्षत्रउत्तरा भाद्रपद, उत्तरा फाल्गुनी, उत्तरा आषाढ़, रोहिणी, मृगशिरा, चित्रा, अनुराधा, रेवती
वारसोमवार, बुधवार, गुरुवार, शुक्रवार, शनिवार
तिथिद्वितीया, तृतीया, पंचमी, षष्ठी, सप्तमी, दशमी, एकादशी, द्वादशी, त्रयोदशी
लग्नद्वितीया, पंचमी, अष्टमी, एकादशी उत्तम है। तृतीया, षष्ठी, नवमी, द्वादशी मध्यम है।
लग्न-शुद्धिलग्न से प्रतिपदा, द्वितीया, तृतीया, पंचमी, सप्तमी, नवमी, दशमी, एकादशी स्थानों में शुभ ग्रह शुभ होते है।
तृतीया, षष्ठी, एकादशी स्थानों में पापग्रह शुभ होते है।
चतुर्थी, अष्टमी स्थानों में कोई ग्रह नहीं होना चाहिए।

कुछ परिस्थितियों में गृह प्रवेश करना अत्यंत आवश्यक हो जाता है। ऐसे में मुहूर्त चक्र के अलावा भी गृह प्रवेश के कुछ शुभ मुहूर्त होते हैं। अति आवश्यक होने पर उन मुहूर्त में गृह प्रवेश कर सकते हैं।

गृह प्रवेश का शुभ मुहूर्त कौन-कौन से हैं?

गृह प्रवेश मुहूर्त निकलवाने के लिए यहाँ क्लिक करें


गृह प्रवेश मुहूर्त 2019 समय तिथि नक्षत्र के अनुसार 2019 के सभी महीनों के लिए।