Business is booming.

अप्रैल 2019 गृह प्रवेश शुभ मुहूर्त, नए घर में प्रवेश करने का मुहूर्त अप्रैल 2019

0

अप्रैल 2019 गृह प्रवेश शुभ मुहूर्त, नए घर में प्रवेश करने का मुहूर्त अप्रैल 2019, April Griha Pravesh, April Grih Muhurat, Griha Pravesh April 2019, अप्रैल में गृह प्रवेश कर सकते हैं, अप्रैल २०१९ गृह प्रवेश, अप्रैल में गृह प्रवेश मुहूर्त, गृह मुहूर्त अप्रैल 2019, House Warming Muhurat April 2019, Griha Muhurat 2019


अप्रैल गृह प्रवेश मुहूर्त

नए घर में गृह प्रवेश करने हर किसी के लिए बहुत खास होता है। गृह प्रवेश के लिए चुना गया समय और तिथि ही तय करती है की नया घर परिवार के लिए कैसा रहेगा? शुभ मुहूर्त में किया गया गृह प्रवेश परिवार में खुशियां और समृद्धि लाता है। वहीं अनुचित मुहूर्त में किया गया गृह प्रवेश कलह और अशांति का कारण बनता है। इसलिए गृह प्रवेश का मुहूर्त चुनते समय खास सावधानी बरतनी चाहिए। यहाँ हम अप्रैल 2019 गृह प्रवेश शुभ मुहूर्त दे रहे हैं।


हम गृह स्वामी के नाम, राशि, ग्रह, लग्न और क्षेत्र के अनुसार गृह प्रवेश कौन सी तिथि को करना चाहिए? और कब शुभ रहेगा आपके लिए ताकि नए घर में खुशियां और समृद्धि आए। मात्र 251 रूपए के डोनेशन पर। डोनेशन के बाद अपना फॉर्म भरें जिसमे नाम, जन्म तिथि, जन्म समय, जन्म क्षेत्र, मकान की दिशा और अपना विवरण भरें। हम आपको 24 घंटे के अंदर मुहूर्त आपके मेल पर भेजेंगे।


गृह प्रवेश कब करना चाहिए?

नक्षत्रउत्तरा भाद्रपद, उत्तरा फाल्गुनी, उत्तरा आषाढ़, रोहिणी, मृगशिरा, चित्रा, अनुराधा, रेवती
वारसोमवार, बुधवार, गुरुवार, शुक्रवार, शनिवार
तिथिद्वितीया, तृतीया, पंचमी, षष्ठी, सप्तमी, दशमी, एकादशी, द्वादशी, त्रयोदशी
लग्नद्वितीया, पंचमी, अष्टमी, एकादशी उत्तम है। तृतीया, षष्ठी, नवमी, द्वादशी मध्यम है।
लग्न-शुद्धिलग्न से प्रतिपदा, द्वितीया, तृतीया, पंचमी, सप्तमी, नवमी, दशमी, एकादशी स्थानों में शुभ ग्रह शुभ होते है।
तृतीया, षष्ठी, एकादशी स्थानों में पापग्रह शुभ होते है।
चतुर्थी, अष्टमी स्थानों में कोई ग्रह नहीं होना चाहिए।

अप्रैल 2019 गृह प्रवेश मुहूर्त

तारीख दिन नक्षत्र तिथि
17 अप्रैल 2019 बुधवार उत्तराफाल्गुनी त्रयोदशी
19 अप्रैल 2019 शुक्रवार चित्रा पूर्णिमा
20 अप्रैल 2019 शनिवार स्वाती प्रतिपदा
22 अप्रैल 2019 सोमवार अनुराधा तृतीया
26 अप्रैल 2019 शुक्रवार उत्तराषाढ़ सप्तमी
29 अप्रैल 2019 सोमवार शतभिषा दशमी

Note : कई क्षेत्रों में खरमास, श्राद्ध, शुक्र-गुरु अस्त, पंचक, चातुर्मास में मुहूर्त नहीं करते। इसलिए मुहूर्त देखने के पहले और करने के पहले इन बातों का जरूर ध्यान रखें। क्यूंकि अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग मान्यता के अनुसार ये होता है। आप अपने क्षेत्र के अनुसार ही मुहूर्त करें। यहाँ मुहूर्त देखने के पहले और शुभ कार्य करने के पहले अपने क्षेत्र के पंचांग के अनुसार ही करें। हमारी कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी।