Business is booming.

हरियाली अमावस्या 2019, जानें कब है सावन अमावस्या?

0

Savan Hariyali Amavasya 2019

हरियाली अमावस्या 2019 : हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, हिंदी महीने के कृष्ण पक्ष की पंद्रहवीं तिथि को अमावस्या के रूप में मनाया जाता है। ऐसे तो अमावस्या तिथि को शुभ नहीं माना जाता लेकिन धार्मिक दृष्टि से अमावस्या तिथि का बहुत खास महत्व होता है। अमावस्या के दिन दान-पुण्य करना, पितरों की शांति करवाना, तर्पण, पिंडदान आदि करना बहुत फलदायी होता है।

सावन अमावस्या

शिव जी की भक्ति और आराधना के लिए सावन के महीने को बहुत खास माना जाता है। इस महीने में आने वाले सभी पर्वों को लोग बड़े धूम-धाम से मनाते हैं। सावन की हरियाली अमावस्या को भी बहुत खास माना जाता है। 2019 में हरियाली अमावस्या 1 अगस्त 2019, गुरुवार को है।

हरियाली अमावस्या 2019

इस साल सावन अमावस्या पर पंच महायोगों का अनोखा संयोग बन रहा है। 125 साल के लंबे इतंजार के बाद 2019 में हरियाली अमावस्या पर शुभ योग, सर्वार्थ सिद्धि, सिद्धि योग, अमृत सिद्धि योग और गुरु पुष्यामृत योग यानी पंच महायोगो का संयोग है। हरियाली अमावस्या के इस संयोग में माँ पार्वती की पूजा का विशेष महत्व है।

हरियाली अमावस्या के दिन मां पार्वती की पूजा करने से माँ अपने भक्तों की हर मनोकामनाएं पूरी करती है। कुंवारी लड़कियां भी हरियाली अमावस्या के दिन व्रत रखती हैं और मां पार्वती की पूजा करती हैं ताकि उन्हें मनचाहा वर मिले।

इसके अलावा सुहागिन महिलाओं का सुहाग हमेशा सलामत बना रहे इसके लिए सुहागन महिलाएं इस व्रत को बड़ी श्रद्धा से रखती हैं। इस दिन पौधारोपण का भी खास महत्व बताया गया है। शास्त्रों के अनुसार हरियाली अमावस्या पर पेड़ लगाने से जीवन के संकट दूर होते हैं और लाभ की प्राप्ति होती है।

हरियाली अमावस्या का शुभ मुहूर्त

2019 में सावन अमावस्या 1 अगस्त 2019, गुरुवार को है।

हरियाली अमावस्या पूजा टाइम

अमावस्या तिथि का आरंभ = 31 जुलाई 2019, बुधवार सुबह 11:57 बजे।
अमावस्या तिथि का समापन = 1 अगस्त 2019, गुरुवार सुबह 08:41 बजे।