Muhurat Panchang and Festivals

नवंबर 2021 में पूर्णिमा कब है? तिथि और मुहूर्त

0

साल 2021 के नवंबर माह में कार्तिक महीना चल रहा होगा और कार्तिक माह में आने वाली पूर्णिमा को कार्तिक पूर्णिमा कहा जाता है। कार्तिक पूर्णिमा को त्रिपुरी पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। और कार्तिक पूर्णिमा को त्रिपुरी पूर्णिमा इसीलिए कहा जाता है क्योंकि इस दिन भोलेबाबा ने त्रिपुरासुर नामक तुच्छ राक्षस का संहार किया था और उन्होंने त्रिपुरासुर राक्षस को मारा था इसीलिए भगवान शिव को त्रिपुरारी के नाम से पुकारा जाने लगा।

कार्तिक पूर्णिमा का महत्व

नवंबर का महीना यानी कार्तिक माह बहुत ही पावन महीना होता है इसीलिए इस महीने में सुबह सुबह सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करने का, नहा धोकर मंदिर जाकर पाठ पूजा करने, भोलेबाबा को जल अर्पण करने आदि का बहुत महत्व होता है। साथ ही जो व्यक्ति कार्तिक महीने में रोजाना सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करते हैंउन्हें शुभ फल की प्राप्ति होती है। इसके अलावा कार्तिक माह में आने वाली पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान का भी बहुत महत्व होता है और दूर दूर से लोग गंगा स्नान के लिए हरिद्वार भी पहुंचते हैं।

कार्तिक पूर्णिमा के दिन हरिद्वार में मेला लगता है और गंगा स्नान करने वाले लोगो की हरिद्वार में इस दिन बहुत भीड़ होती है। साथ ही ऐसा भी माना जाता है जो लोग पूरा साल गंगा स्नान करने नहीं जाते हैं और इस दिन गंगा स्नान करने जाते हैं तो ऐसा करने से साल भर के गंगा स्नान करने जितना फायदा मिलता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार ऐसा भी माना जाता है की कार्तिक पूर्णिमा पर संध्या यानी शाम के समय भगवान विष्णु का मत्स्यावतार हुआ था। कार्तिक पूर्णिमा के पावन दिन पर गंगा स्नान करने के बाद दीप दान, दान धर्म के कार्य आदि करने का फल दस यज्ञों के समान होता है।

कार्तिक पूर्णिमा पर किये जाने वाले धार्मिक कर्म

  • पूर्णिमा के दिन नदी, कुंड आदि में स्नान करना चाहिए क्योंकि ऐसा करना बहुत शुभ माना जाता है।
  • शिवा, संभूति, संतति, प्रीति, अनुसुईया, क्षमा इन छः कृतिकाओं का पूजन कार्तिक पूर्णिमा के दिन जरूर करना चाहिए ऐसा करना आपके लिए फलदायी होता है।
  • यदि आप कार्तिक पूर्णिमा के दिन भेड़ का दान करते हैं तो ऐसा करने से घर में होने वाले कलेश से निजात मिलता है और घर की सुख शांति बनी रहती है साथ ही धन धान्य में वृद्धि बढ़ती है।
  • भोलेबाबा की असीम कृपा आप और आपके परिवार पर बनी रहे इसके लिए आपको त्रिपुरारी पूर्णिमा के दिन बैल का दान करना चाहिए।
  • इस दिन गाय, हाथी, घोड़ा, रथ और घी आदि का दान करने से आपके धन समृद्धि में बढ़ावा मिलता है।
  • कार्तिक पूर्णिमा के दिन राधा कृष्ण का पूजा करने और यमुना जो में स्नान करने का भी बहुत महत्व होता है।
  • कार्तिक पूर्णिमा का व्रत रखने वाले लोगो को इस दिन हवन करना चाहिए साथ ही जरूरतमंदों को भोजन करवाना चाहिए और दान करना चाहिए।
  • पूर्णिमा की शुरुआत से लेकर आखिर तक पूजा पाठ करना बहुत ही शुभ व् फलदायी माना जाता है।

2021 कार्तिक पूर्णिमा तिथि व् शुभ मुहूर्त

कार्तिक पूर्णिमा तिथि: कार्तिक पूर्णिमा दिन शुक्रवार, नवम्बर 19, 2021 को है।

पूर्णिमा तिथि प्रारम्भ: नवम्बर 18, 2021 दिन बृहस्पतिवार को 12:00 PM से लेकर

पूर्णिमा तिथि समाप्त: नवम्बर 19, 2021 दिन शुक्रवार को 02:26 PM तक है।

तो यह है कार्तिक पूर्णिमा से जुडी सम्पूर्ण जानकारी, साथ ही कार्तिक माहमें किया गया पूजा पाठ आपको एक साल के पूजा पाठ जितना फल देता है। इसके अलावा हो सके तो आपको कार्तिक पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान करने जरूर जाना चाहिए और दान धर्म का काम करना चाहिए ताकि आपके और आपके परिवार पर आपके गुरुजनों, पितरों का आशीर्वाद बना रहें।

Leave a comment