Ultimate magazine theme for WordPress.

माघ (मौनी) अमावस्या 2019, Mauni Amavasya 2019 Date

अमावस्या 2019 तिथि

मौनी अमावस्या 2019, माघ अमावस्या का महत्व, मौनी अमावस्या कब है, Mauni Amavasya 2019 Date, फरवरी 2019 अमावस्या, February Amavasya Date 2019, Magh Amavasya, Maghi Amavasya, Mauni Amvasya 2019 Puja timings, मौनी अमावस्या कुंभ स्नान


2019 मौनी अमावस्या

Mauni Amavasya 2019 Date : प्रत्येक हिंदी महीने के कृष्ण पक्ष की पंद्रहवी तिथि को अमावस्या मनाई जाती है। जिसका बहुत खास महत्व होता है। पितृ तर्पण से लेकर स्नान-दान आदि कार्यों को करने के लिए अमावस्या तिथि बहुत शुभ मानी जाती है।

मौनी अमावस्या

माघ महीने के कृष्ण पक्ष की पंद्रहवीं तिथि को मौनी अमावस्या कहते हैं इसे माघी अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है। माघ अमावस्या को धार्मिक रूप से बहुत खास माना जाता है। सामान्यतौर पर अमावस्या तिथि को किसी भी काम को करने के लिए शुभ नहीं माना जाता लेकिन पितृ तर्पण, पितृ श्राद्ध, पिंडदान आदि कार्यों के लिए अमावस्या तिथि से शुभ समय और कोई नहीं होता। अमावस्या में पितृ दोष और कालसर्प दोष से मुक्ति के लिए उपवास और पूजा भी की जाती है।

मौनी अमावस्या फरवरी 2019 : Mauni Amvasya 2019

मौनी अमावस्या कब है?

4 फरवरी 2019 सोमवार

माघ अमावस्या मुहूर्त

2019 में मौनी अमावस्या 4 फरवरी 2019, सोमवार को है।

अमावस्या आरंभ = 3 फरवरी 2019, रविवार को रात्रि 23:52 बजे। 
अमावस्या समाप्त = 5 फरवरी 2019, मंगलवार को प्रातः 02:33 बजे। 

माघी अमावस्या का महत्व

हिन्दू धर्म में माघ माह की अमावस्या को बहुत ख़ास माना जाता है। इस अमावस्या को मौनी अमावस्या के रूप में भी जाना जाता है। इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करना बहुत शुभ होता है। कहते हैं, कुंभ पर्व के दौरान माघी अमावस्या को प्रयाग संगम में गंगा स्नान करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है।

मौनी अमावस्या के दिन मौन व्रत रखने का भी विधान है। यह व्रत व्यक्ति को अपनी इंद्री को वश में रखना सिखाता है। शास्त्रों में वाणी को नियंत्रित करने के लिए इस दिन को सबसे शुभ बताया गया है। मौनी अमावस्या को स्नान के बाद मौन व्रत रखकर जाप करने से मन की शुद्धि होती है। कुंभ मेले का एक स्नान मौनी अमावस्या का भी होता है।