Business is booming.

मोहिनी एकादशी 2019, मोहिनी एकादशी का महत्व और व्रत कथा

0

Mohini Ekadashi 2019

हिन्दू धर्म में एकादशी तिथि को बहुत खास माना जाता है, जिसे हर महीने के कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष की ग्यारहवीं तिथि को मनाया जाता है। एकादशी के दिन उपवास रखना और गंगा स्नान करना बहुत शुभ होता है। कहा जाता है, एकादशी का व्रत रखने से सभी पाप नष्ट हो जाते हैं और मोक्ष की प्राप्ति होती है।

मोहिनी एकादशी व्रत

वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को मोहिनी एकादशी के रूप में मनाया जाता है। धार्मिक रूप से इस एकादशी का बहुत खास महत्व है। शास्त्रों के अनुसार, वैशाख शुक्ल की एकादशी के दिन ही भगवान विष्णु ने मोहिनी रूप धारण किया था। कहा जाता है, भगवान विष्णु के मोहिनी अवतार के कारण ही देवताओं को समुद्र मंथन से मिले अमृत की प्राप्ति हुई थी।

मोहिनी एकादशी का महत्व

मोहिनी एकादशी का माहात्म्य बहुत अधिक माना जाता है। पुराणों के अनुसार, माता सीता से बिछड़ने के बाद भगवान श्री राम ने और महाभारत काल में युधिष्ठिर ने भी अपने दुःखों से छुटकारा पाने के लिए मोहिनी एकादशी का व्रत पुरे विधि-विधान से किया था। जिसका फल भी उन्हें मिला। माना जाता है, इस एकादशी का व्रत रखने से हर प्रकार के दुःखों से छुटकारा मिलता है। मोहिनी एकादशी व्रत कथा पढ़ने और सुनने से सहस्त्र गोदान का फल मिलता है।

एकादशी व्रत विधि

एकादशी का व्रत करने वाले व्यक्ति को बहुत से नियमों का पालन करना होता है। एकादशी व्रत के नियम दशमी तिथि से ही आरंभ हो जाते हैं। एकादशी व्रत रखने वाला व्यक्ति दशमी तिथि को एक समय ही सात्विक भोजन करते हैं। व्रती को पूर्णतः ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए। एकादशी के दिन ब्रह्म मुहूर्त में जागकर स्नानादि से निवृत होकर स्वच्छ वस्त्र पहनने चाहिए। उसके बाद लाल वस्त्र से सजाकर कलश स्थापना करके भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करनी चाहिए। मोहिनी एकदाशी का व्रत करने वाले भगवान के मोहिनी स्वरुप की आराधना करें। इसके बाद मोहिनी एकादशी व्रत कथा पढ़े या सुनें। रात में श्री हरी का भजन कीर्तन करते हुए जागरण करना चाहिए। द्वादशी के दिन हरी वासर समाप्त होने के बाद एकादशी व्रत का पारण करना चाहिए।

व्रत पारण करने से पूर्व भगवान की पूजा अर्चना कर, किसी योग्य ब्राह्मण को भोजन कराकर, दान देकर संतुष्ट करना चाहिए और उसके बाद ही स्वयं भोजन करना चाहिए। बिना ब्राह्मण भोज के एकादशी व्रत सफल नहीं माना जाता।

मोहिनी एकादशी 2019 : Mohini Ekadashi Vrat 2019

2019 में मोहिनी एकादशी 15 मई 2019, बुधवार को है।

मोहिनी एकदाशी पारण

मोहिनी एकादशी व्रत पारण का समय = 16 मई 2019, गुरुवार को प्रातः 05:34 से 08:15 तक।

व्रत पारण के दिन द्वादशी तिथि समाप्त होने का समय = सुबह 08:15 बजे।

एकादशी तिथि आरंभ = 14 मई 2019, मंगलवार दोपहर 12:59 बजे।
एकदाशी तिथि समाप्त = 15 मई 2019, बुधवार सुबह 10:35 बजे।