Take a fresh look at your lifestyle.

विभिन्न नक्षत्रों में जन्म होने के क्या-क्या फल होते हैं?

जन्म नक्षत्र के अनुसार फल

जन्म नक्षत्र के अनुसार जानें अपना स्वाभाव और फल

भारतीय ज्योतिष के अनुसार, व्यक्ति के जीवन की कठिनाइयां और शुभ परिणाम पहले से ही निहित होते हैं। कहा जाता है जन्म के पश्चात् व्यक्ति का भाग्य लिखा जाता है और उसी के अनुसार फल मिलते हैं। हालाँकि समय के साथ फल का परिणाम बदल सकता है, लेकिन कभी खत्म नहीं होता और यह मनुष्य के कर्म निर्धारित करते हैं। यहाँ हम ऐसे ही विषय पर बात कर रहे हैं।

शास्त्रों के अनुसार, जिस घड़ी मनुष्य जन्म लेता है उसका भाग्य उस समय ग्रहों और तारों के स्थिति के अनुसार तय किया जाता है। ग्रहों के साथ-साथ नक्षत्रों का भी खास महत्व होता है। जिस प्रकार ग्रहों की स्थिति जीवन के लाभ हानि को बताती है उसी प्रकार जन्म के समय चंद्रमा का नक्षत्र भाग्य को दर्शाता है। आज हम आपको विभिन्न नक्षत्रों में जन्म होने के क्या-क्या फल होते हैं वो बता रहे हैं।

किस नक्षत्र में जन्म होने से क्या फल मिलता है?

अश्विनी

अश्विनी नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्ति सुंदर और भाग्यवान होते हैं। ऐसे मनुष्य विलक्षण प्रतिभा वाले होते हैं और कार्यकुशलता अच्छी होती है। इनका शरीर मोटा होता है और ये अधिक धनवान होते हैं। इन लोगों की लोकप्रियता काफी अधिक होती है।

भरणी

भरणी नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्ति सदा निरोग रहते हैं और सत्य बोलते हैं। इन व्यक्तियों के विचार बहुत अच्छे होते हैं। इनका दृढ प्रतिज्ञा वाला व्यवहार जीवन के लक्ष्यों को पूर्ति करने में मदद करता है। ये सदैव सुखी और धनी रहते है।

कृत्तिका

कृतिका नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति बहुत कंजूस होते हैं। उन्हे धन खर्च करने में बहुत तकलीफ होती है। ये लोग पापी, दूसरों से जलन करने वाले होते है। इनके इसी स्वाभाव के कारण इन्हे काफी सुख नहीं मिलता और ये हमेशा दुखी रहते हैं।

रोहिणी

रोहिणी नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति धनवान, कृतज्ञ मेधावी और राजमान्य होते हैं। ये लोग बहुत अच्छी वाणी बोलते हैं, इनके बात करने का तरीके और विचार सबको अच्छे लगते हैं। ये प्रियवक्ता होते हैं। ऐसे व्यक्ति हमेशा सत्य बोलते हैं और सुन्दर होते हैं।

मृगशिरा

मृगशिरा नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्ति चंचल स्वभाव के होते हैं परन्तु ये चतुर भी होते हैं। इनमे धैर्य बहुत होते हैं। ये किसी भी स्थिति को बड़ी समझदारी से संभालते हैं। पर ये लोग स्वार्थी होते हैं, और अहंकारी भी होते हैं। ये लोग दूसरों से द्वेष रखते हैं। इसलिए ज्यादा लोगों से इनकी बनती नहीं।

आर्द्रा

इस नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति कृतघ्न होते हैं। ये व्यक्ति पापी होते हैं। अपनी स्त्री से प्रेम का स्वांग करके परस्त्री से प्रेम करते हैं और संबंध रखते हैं। इन लोगों धन-धान्य की हानि होती रहती है।

पुनर्वसु

पुनर्वसु नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्ति शांत स्वाभाव के होते हैं और हमेशा सुखी रहते हैं। इन व्यक्तियों को ऐश-ओ-आराम की आदत होती है। ये व्यक्ति सुन्दर, लोकप्रिय होते हैं। इन्हे पुत्र-पौत्रादि का सुख मिलता है।

पुष्य

पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्ति धर्म को मानने वाले होते हैं। इनकी धर्म में आस्था बहुत होती है। ये व्यक्ति धनवान और दिमाग से पंडित होते हैं। इनका स्वाभाव शांत होता है। ऐसे व्यक्ति सुंदर और हमेशा सुखी रहते हैं।

अश्लेषा

अश्लेषा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति सब पदार्थों को खाने वाले होते हैं। ये खाने के बहुत शौक़ीन होते हैं। ऐसे व्यक्ति क्रूर और कृतघ्न स्वाभाव के होते हैं। ये धूर्त, दुष्ट होते हैं और केवल अपने कार्यों को करते हैं दूसरों की मदद नहीं करतें।

मघा

मघा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति राजसी ठाठ वाले होते हैं, और बहुत से नौकर रखते हैं। ऐसे व्यक्ति धनी और भोगी होते हैं। ये लोग पिता के भक्त होते हैं। ऐसे लोग उद्योगी होते हैं और इनका पद ऊँचा होता है।

पूर्वाफाल्गुनी

पूर्वाफाल्गुनी नक्षत्र में जन्मे लोग विद्या, धन और संपदा से युक्त होते हैं। इन लोगो का स्वाभाव गंभीर होता है। ये लोग स्त्रियों के प्रिय और सुखी मनुष्य होते हैं। मस्तिष्क से ये लोग पंडित होते हैं।

उत्तराफाल्गुनी

उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्ति अपनी इन्द्रियों पर वश कर लेते हैं। वे शूरवीर होते हैं। उनकी वाणी बहुत कोमल होती है। ये लोग शस्त्रविद्या में निपुण होते हैं। इनकी लोकप्रियता काफी होती है।

हस्त

हस्त नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति झूठ बोलने वाले, ढीठ होते हैं। ये लोग शराब का सेवन करने वाले होते हैं। इन लोगों का कोई भी भाई नहीं होता है। ऐसे लोग चोर, परस्त्रीगामी होते हैं। ये लोग विश्वसनीय नहीं होते।

चित्रा

चित्रा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति पुत्र-स्त्री से युक्त, संतोषी, धनवान होते हैं। ऐसे लोग अपने गुरुजनों के भक्त होते हैं।

स्वाती

स्वाती नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्ति बहुत चतुर होते हैं। ऐसे लोग धर्मात्मा, कृपण और लोकप्रिय होते हैं। इन व्यक्तियों का स्वाभाव सुशील होता है। ये लोग देवताओं के बड़े भक्त होते हैं।

विशाखा

विशाखा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति बड़े लोभी होते हैं। इन लोगों में अभिमान बहुत ज्यादा होते हैं। ये लोग निष्ठुर दूसरों पर दया नहीं करने वाले होते हैं। ये झगड़ालू किस्म के होते हैं। इन लोगों को वेश्या के पास जाने की आदत होती है।

अनुराधा

अनुराधा नक्षत्र में जन्म लेने वाले मनुष्य विदेशों में यात्रा करने वाले होते हैं। ये लोग अपने बंधुओं के कार्य बड़ी सरलता से करते हैं।

ज्येष्ठा

ज्येष्ठा नक्षत्र में जन्मे मनुष्यों के बहुत से मित्र होते हैं। ये लोग प्रधान, कवि, दानी, पंडित, धर्मात्मा होते हैं।

मूल

मूल नक्षत्र में जन्म लेने वाले सुखी होते हैं। इन लोगों के पास धन और वाहन होते हैं। ये लोग हिंसक प्रवृति और बहुत बलवान होते हैं। ये हमेशा स्थिर कार्यों को करते हैं वहीं काम करते हैं जिनमे स्थिरता हो। ये लोग हमेशा अपने शत्रुओं पर विजय प्राप्त करते हैं।

पूर्वाषाढ़

पूर्वाषाढ़ नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति अपनी शरण में आए हुए सभी व्यक्तियों का उपकार करने वाले होते हैं। ये लोग अति भाग्यवान होते हैं। इन लोगों की लोकप्रियता बहुत होती है। ये लोग सभी कार्यों में चतुर होते हैं।

उत्तराषाढ़

उत्तराषाढ़ में जन्म लेने वालों के मित्र बहुत ज्यादा होते हैं। ये लोग मोटे, लंबे कद वाले होते हैं। ये हमेशा विजयी होते हैं। ऐसे लोग सदा सुखी रहते हैं।

श्रवण

श्रवण नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति कृतज्ञ, सुंदर, दाता, सर्वगुण सम्पन्न होते हैं। इन लोगों के पास धन की कमी नहीं होती। इनकी बहुत सी संताने हो सकती हैं।

घनिष्ठा

घनिष्ठा नक्षत्र में जन्में व्यक्ति संगीत प्रिय होते हैं। ये अपने बंधुओं से मान्य होते हैं। इनके पास धन और सम्पदा खूब होती है। और ये बहुत लोगों की मदद करते हैं।

शतभिषा

शतभिषा नक्षत्र के व्यक्ति कृपण और धनवान होते हैं। ऐसे मनुष्य पर-स्त्रीगामी होते हैं। इन लोगों को विदेशों में रहने की कामना होती है।

पूर्वाभाद्रपद

इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्ति बहुत अच्छे वक्ता होते हैं। ये लोग सुशील और संतान से युक्त होते हैं। इन लोगों को निद्रा खूब आती है। ये लोग अपना बहुत सा समय व्यर्थ करते हैं।

उत्तराभाद्रपद

उत्तराभाद्रपद नक्षत्र के व्यक्ति गौरवर्ण होते हैं। ये लोग बहुत बलवान और धर्मात्मा होते हैं। ये लोग हमेशा शत्रु को जीतते हैं। ऐसे व्यक्ति बहुत साहसी होते हैं।

रेवती

रेवती नक्षत्र में जन्म लेने वाले सब अंगों से पूर्ण होते हैं। ऐसे व्यक्ति पूर्णतः पवित्र होते हैं। ये लोग साधु, पंडित हो सकते हैं। इनके पास धन की कमी नहीं होती। ये अधिक धनवान होते हैं।

इन सभी नक्षत्रों में अश्विनी, मघा, मूल, रेवती, श्लेषा, ज्येष्ठा ये छह नक्षत्र गंडमूल होते हैं। इनमे जन्म होने से पाद या चरण भेद से विशेष फल प्राप्त होता है। ये बहुत शुभ या अशुभ हो सकता है।