Take a fresh look at your lifestyle.

पुखराज धारण करने के फायदे और पुखराज किसे पहनना चाहिए

पुखराज रत्न पहनने के फायदे

पुखराज रत्न, पुखराज किसे धारण करना चाहिए, पुखराज किसे नहीं पहनना चाहिए, पुखराज रत्न पहनने के फायदे, असली पुखराज की पहचान कैसे करें, पुखराज रत्न का रंग

बदलते ग्रहों की चाल और जन्म कुंडली में किसी दोष के कारण व्यक्ति की स्थिति बदलती रहती है। और ऐसे में जन्म कुंडली में दोष और ग्रह की टेढ़ी चाल के दुष्प्रभाव से बचने के लिए व्यक्ति रत्न धारण करता है। यह रत्न उनकी राशि के हिसाब से होता है और यह भी निर्भर करता है की वो किस दोष के निवारण के लिए रत्न धारण कर रहें हैं। तो आज हम आपको पुखराज रत्न से जुडी कुछ बातें बताने जा रहें हैं, जैसे की पुखराज पहनने से क्या क्या फायदा होता है, यह रत्न किसे धारण करना चाहिए, और किसे धारण नहीं करना चाहिए। और साथ ही पुखराज का रत्न असली है या नहीं इसके लिए आप क्या उपाय करके देख सकते हैं।

पुखराज रत्न

पुखराज रत्न को गुरु रत्न भी कहा जाता है, क्योंकि पुखराज बृहस्पति का रत्न होता है। सफ़ेद, पीला, गुलाबी, आसमानी तथा नीला आदि रंगो में आपको पुखराज रत्न मिल जाता है। लेकिन क्योंकि यह गुरु का रत्न होता है इसीलिए इसमें पीले रंग अथवा पलाश के फूलो जैसा रंग का पुखराज ही सबसे उत्तम और अनुकूल माना जाता है। इसके अलावा सबसे उत्तम क़्वालिटी का पुखराज ब्राजील में पाया जाता है, साथ ही यह भारत में भी मिल जाता है।

असली पुखराज की पहचान कैसे करें

  • असली पुखराज की पहचान करने का सबसे आसान तरीका होता है की आप उसे कम से कम चौबीस घंटे के लिए दूध में डाल कर रख दें, यदि उसकी चमक कम होती है तो इसका मतलब वह असली नहीं है, और यदि उसकी चमक पर थोड़ा सा भी असर नहीं पड़ता है तो इसका मतलब होता है की वह असली पुखराज है।
  • यदि आप पुखराज को गोबर से रगड़ते हैं और उसकी चमक में वृद्धि होती है तो वह भी असली पुखराज होता है।
  • असली पुखराज पारदर्शी होने के साथ अधिक वजन का भी होता है।
  • यदि आप पुखराज रत्न को गर्म करते हैं, और वह तड़कता नहीं है लेकिन उसका रंग एक दम सफ़ेद हो जाता है तो वह भी असली पुखराज होता है।
  • सफ़ेद कपडे पर पुखराज को रखें यदि धूप की किरणें पड़ने पर उसकी पीली आभा आपको सफ़ेद कपडे पर दिखाई देती है तो यह भी असली पुखराज की निशानी होती है।

पुखराज किसे धारण करना चाहिए

जिन लोगो की राशि में बृहस्पति की दशा शुभ भाव स्थिति में होती है उन लोगो को इस रत्न को धारण करना चाहिए। धनु, कर्क, मेष, वृश्चिक और मीन राशि वाले लोग भी इसे धारण करके इसका लाभ उठा सकते हैं। या फिर जिनकी जन्म कुंडली में गुरु प्रधान ग्रह होता है उन्हें इस रत्न को पहन कर इसका लाभ जरूर उठाना चाहिए।

किस राशि वाले लोगो को पुखराज नहीं पहनना चाहिए

कन्या, तुला मकर, कुम्भ, वृष, मिथुन, वाली राशि के लोगो को पुखराज धारण नहीं करना चाहिए, क्योंकि इन राशि में बृहस्पति ग्रह अकारक होता है, जिसके कारण व्यक्ति को हानि हो सकती है। इसीलिए इस राशि वाले अपनी राशि के अनुसार किसी और रत्न को धारण कर सकते हैं यदि वह करना चाहते हैं।

पुखराज पहनने के क्या क्या फायदे होते हैं

रत्न धारण करने से व्यक्ति की कुंडली और ग्रह दोष को खत्म करने में मदद मिलती है, जिसके कारण उसके कष्टों को खत्म किया जा सकता है, इसके अलावा और भी बहुत से फायदे होते हैं जो आपको पुखराज धारण करने से होते हैं। तो आइये अब विस्तार से जानते हैं की पुखराज धारण करने से कौन कौन से फायदे मिलते हैं।

  • मान सम्मान, कीर्ति व् यश की प्राप्ति के लिए पुखराज को धारण करना उत्तम माना गया है।
  • यदि कोई व्यक्ति इस रत्न को पहनता है तो उसका धर्म कर्म की तरह ध्यान बढ़ता है।
  • विवाह में आ रही मुश्किलों को दूर करने के लिए भी इस रत्न को पहनना उत्तम होता है।
  • शिक्षा क्षेत्र और करियर में सफलता के लिए भी इस रत्न को पहनने से फायदा मिलता है।
  • आपके स्वास्थ्य से जुडी परेशानियों को दूर करने के लिए भी पुखराज को पहनना फायदेमंद होता है। इसे धारण करने से लिवर से सम्बंधित परेशानी, अल्सर, गठियां, हदय रोग आदि बहुत सी परेशानियों से बचाव करने में फायदा मिलता है।
  • धन की प्राप्ति के लिए भी इस रत्न को पहनना उत्तम होता है, इसके अलावा आप अपनी बहुत सी समस्याओं का निवारण करने के लिए अपने पंडित से पूछकर इसे धारण कर सकते हैं।

तो यह हैं पुखराज रत्न से जुडी कुछ बातें इसके अलावा यदि आप कोई भी रत्न धारण करते हैं तो आपको उसे धारण करने से पहले किसी अच्छे ज्योतिष की राय जरूर लेनी चाहिए। क्योंकि रत्न यदि राशि के अनुसार पहना जितना फायदा कर सकता है, उतना ही नुकसान तब होता है जब आप उसे अपनी राशि के अनुसार नहीं पहनते हैं। साथ ही किसी ऐसे वैसे पंडित की राय न लेकर किसी अच्छे पंडित या ज्योतिष से पूछना चाहिए।