Auspecious Muhurat, Daily Panchang and Festivals

सरस्वती पूजा 2023 : वसंत पंचमी 25 या 26 जनवरी कब है शुभ मुहूर्त पूजा के लिए

Saraswati Puja 2023, Basant Panchmi Time, Panchmi Tithi, Shubh Muhurat for Sarawati Ma Pooja Timing : वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सरस्वती पूजा के दिन अबूझ मुहूर्त होता है। अबूझ मुहूर्त उसे कहते हैं जिस दिन आप कोई भी शुभ कार्य बिना किसी दिन तिथि नक्षत्र के कर सकते हैं। बिना मुहूर्त चक्र के भी कोई भी मुहूर्त कर सकते हैं।

सरस्वती पूजा यानी बसंत पंचमी के दिन कोई भी शुभ कार्य शुरू किया जा सकता है पर कई लोगों को 2023 सरस्वती पूजा के बारे में कंफ्यूजन है की पंचमी तिथि कब है 25 जनवरी को या 26 जनवरी को। आइए जानते हैं कि सरस्वती पूजा का शुभ मुहूर्त कब से कब तक है पंचमी तिथि कब से शुरू होकर कब तक रहेगी और किस दिन पूजा करना शुभ होगा।

बसंत पंचमी 2023 कब से कब तक है?

शास्त्रों के अनुसार जिस दिन बसंत पंचमी तिथि सूर्योदय से दोपहर के बीच में व्याप्त होती है, उस दिन को देवी सरस्वती की पूजा के लिए उत्तम माना जाता है. ऐसे में उदयातिथि के अनुसार 26 जनवरी 2023 को बसंत पंचमी का त्योहार मनाना शुभ रहेगा.

इस साल सरस्वती पूजा यानी बसंत पंचमी का त्यौहार 26 जनवरी 2023 गुरुवार को मनाया जाएगा। बसंत पंचमी का त्यौहार सनातन धर्म के अनुसार माघ शुक्ल पंचमी तिथि को मनाया जाता है।

2023 जनवरी महीने में बसंत पंचमी 25 जनवरी को दोपहर 12:34 से शुरू होगी होगी और अगले दिन 26 जनवरी 2023 को सुबह 10:28 तक रहेगी। यानी पंचमी तो 25 जनवरी को शुरू हो जाएगा पर पूजा 26 जनवरी को ही शुभ है।

बसंत पंचमी सरस्वती पूजा का शुभ मुहूर्त, पूजा का समय कब से कब तक है?

बसंत पंचमी में पूजा का मुहूर्त सुबह 7:12 से लेकर 12:34 तक रहेगा। अवधि – 05 घण्टे 21 मिनट्स