शादी के बाद अगर मांगलिक दोष का पता चले तो क्या करें?

0

कुंडली में मगल दोष का कारण मंगल ग्रह के घर में किसी शत्रु ग्रह के होने के कारण या कुंडली में बनने वाली परिस्थितियां हो सकती हैं। और इन्ही ग्रहों के प्रभाव के कारण जातक की कुंडली में अच्छे या बुरे समय का योग बनता है। कोई व्यक्ति उम्र के हिसाब से मांगलिक होता है जैसे की कोई 23, कोई 27 तो कोई 31 वर्ष या उससे ज्यादा उम्र तक के लिए मांगलिक होता है। लेकिन कई बार कुंडली के अनुसार ताउम्र के लिए भी जातक मांगलिक हो सकता है। ऐसे में माना जाता है की मांगलिक का विवाह मांगलिक से ही होना चाहिए, यदि कभी मांगलिक का विवाह किसी ऐसे व्यक्ति के साथ हो जाता है तो ऐसा कहा जाता है की उन्हें बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

इसीलिए शादी से पहले कुंडली मिलान किया जाता है, ताकि यदि कुंडली में कोई दोष हो तो उसका निवारण किया जाएं। ताकि शादी के बाद किसी भी तरह की परेशानी का सामना कपल को न करना पड़े। लेकिन कई बार ऐसा भी होता है की शादी से पहले नहीं लेकिन शादी के बाद पता चलता है की पार्टनर मांगलिक है, जिसके कारण हो सकता है दाम्पत्य जीवन में परेशानियां आने लग जाएँ, तो ऐसे में मांगलिक होने के कारण होने वाली परेशानियों से निजात पाने के लिए पति और पत्नी बहुत से उपाय कर सकते है जिनसे मंगल के बुरे प्रभाव से बचे रहने में मदद मिलती है।

पत्नी करें यह उपाय

मंगलवार को यदि पत्नी मंगला गौरी की पूजा करती है उनके लिए उपवास करती है, तो ऐसा करने से मगल ग्रह के बुरे प्रभाव को खत्म करने में मदद मिलती है। साथ ही इसके लिए आप किसी पंडित से भी राय ले सकते हैं की किस तरह और कितने व्रत करने से इसका लाभ मिलता है।

पति पत्नी मिलकर करे यह उपाय

उज्जैन के मंगलनाथ मंदिर में पूरी विधि के अनुसार भात पूजन करवाने से भी शादी के बाद मांगलिक दोष के कारण होने वाली परेशानियों को खत्म करने में मदद मिलती है। और इस उपाय को करने के लिए पति और पत्नी दोनों को मिलकर पूजा करनी चाहिए।

हनुमान जी का पाठ करें

हनुमान जी को मंगल ग्रह का देवता माना जाता है, और ऐसा माना जाता है की मंगलवार को हनुमान जी की पूजा करने से मंगल ग्रह के बुरे प्रभाव को शांत करने में मदद मिलती है।

पूर्णिमा के दिन करें यह उपाय

पूर्णिमा के दिन रात के समय पति और पत्नी मिलकर या फिर कोई एक चांदी या स्टील के बर्तन में जल, थोड़ा कच्चा दूध, सफ़ेद फूल डालकर अर्क दें। उसके बाद हाथ जोड़कर दाम्पत्य जीवन के सुखमय होने की प्रार्थना करें इससे भी मांगलिक दोष के कारण आने वाले कष्टों का निवारण करने में मदद मिलती है।

आंकड़े के फूल

सफ़ेद आंकड़े के फूलों की माला लाल रंग के धागे में पिरोकर बनाएं, उसके बाद चालीस मंगलवार तक इसे हनुमान जी के मंदिर में चढ़ाए। पति पत्नी मिलकर या उनमे से कोई एक भी इस उपाय को कर सकता है, और बेहतर होगा जिसकी कुंडली में यह दोष है वो हनुमान जी के मंदिर में जाएं।

बजरंगबाण का पाठ

प्रत्येक मंगलवार को बजरंगबाण का पाठ करने से भी इस समस्या से निजात पाने में मदद मिलती है, साथ ही इस यदि यदि ब्लड डोनेट किया जाता है तो भी मंगल को शांत करने में मदद मिलती है।

शिवलिंग की करे पूजा

यदि आपको शादी के बाद पता चलता है की आपके जीवनसाथी की कुंडली में मांगलिक दोष है और इस कारण आपके शादीशुदा जीवन में परेशानियां आ रही हैं, तो इससे निजात पाने के लिए हर मंगलवार को शिवलिंग पर मसूर की दाल चढ़ाएं। क्योंकि मंगल की पूजा शिवलिंग के रूप में की जाती है और मसूर की दाल मंगल ग्रह का अन्न है। ऐसे में इस समस्या से निजात मिलता है और साथ ही माता पार्वती और भोलेबाबा से शादीशुदा जीवन में आ रही कठिनाइओं को दूर करने के लिए प्रार्थना करनी चाहिए।

मूंगा धारण करें

शुभ दिन और शुभ समय के बारे में अपने पंदिर से पूछकर मांगलिक व्यक्ति यदि मूंगा रत्न को धारण करता है, तो इससे भी शादीशुदा जीवन में आ रही परेशानियों को दूर करने में मदद मिलती है।

तो यह है कुछ उपाय जिनका इस्तेमाल करने से शादी के बाद यदि कपल को पता चलता है की वो मांगलिक है तो उसके बुरे प्रभाव से बचने में मदद मिलती है। और हमेशा हर जातक की कुंडली पर मगल का बुरा प्रभाव ही हो यह भी सच नहीं है ऐसे में यह पूरी तरह से ग्रहों की परिस्थिति पर निर्भर करता है।