Hindi Panchang, Online Muhurat, Astrology Services, Festivals, Vrat Tyohar

जब कुंडली में शनि भारी हो, शनि दोष हो तो क्या करें?

शनि दोष, नौ ग्रहों में शनि का एक अलग व् खास स्थान होता है। शनि को संतुलन, सीमा व् न्याय का ग्रह भी कहा जाता है। क्योंकि ऐसा माना जाता है जहां सूर्य का प्रभाव समाप्त होता है वहीँ से शनि का प्रभाव शुरू होता है। शनि हमारे जीवन पर बहुत गहरा असर डालते हैं। अच्छाई व् ईमानदार व्यक्ति पर जहां शनि की कृपा का बरसती है। वहीँ बुरे कर्म करने वाले लोगो पर शनि की टेढ़ी नज़र भी पड़ सकती है। क्योंकि सभी ग्रहों में सबसे ताकतवर दृष्टि शनि ग्रह की ही होती है।

और आपने कई लोगो से सुना भी हो की उनकी साढ़ेसाती चल रही है। या उनकी कुंडली में शनि भारी है जिसके कारण उन्हें जीवन में बहुत सी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। तो यदि आपकी कुंडली में भी शनि दोष है। या शनि भारी है तो आप कुछ आसान तरीको का इस्तेमाल करके इस समस्या से निजात मिल सकता है। तो आइये आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से आपको शनि की बड़ी दृष्टि से बचाव के कुछ उपाय बताने जा रहें हैं। लेकिन उससे पहनें जानते हैं की शनि दोष क्या होता है।

शनि दोष क्या होता है?

जातक की कुंडली में होने वाले शनि दोष का मतलब होता है की यदि किसी जातक की कुंडली में शनि ऐसी जगह पर विराजमान हो। जहां व् जातक के लिए कष्टदायक व् नुकसानदायक हो। शनि धीमी चाल से चलते हैं, इसीलिए इसका प्रभाव भी जातक पर लम्बे समय के लिए रहता हैं। जैसे की शनि की साढ़ेसाती (साढ़े सात साल), शनि की ढैय्या (ढाई साल) आदि। और शनि दोष का प्रभाव इतना बुरा होता है की आसमान पर बैठा व्यक्ति जमीन पर आ जाता है। इसीलिए शनि को क्रूर व् दुष्ट ग्रह भी माना जाता है। लेकिन असल में यह लोगो को केवल उनके बुरे कर्मों के लिए ही दण्डित करते हैं। और प्रसन्न होने पर जातक को आसमान की बुलंदियों पर भी पहुंचा सकते हैं।

कुंडली में होने वाले शनि दोष से बचने के उपाय

यदि आप भी कुंडली में शनि दोष से परेशान हैं ।तो कुछ आसान तरीको का इस्तेमाल करके आप इस परेशानी से आसानी से निजात पा सकते हैं। तो आइये अब जानते हैं शनि दोष से बचने के कुछ आसान उपाय कौन से हैं।

शनिवार को करें यह उपाय

  • प्रत्येक शनिवार को शनि मंदिर में जाएँ।
  • शनि जी की उपासना करें और उनकी कृपा के लिए प्रार्थना करें।
  • शनिवार के दिन राई, तेल, उड़द, काला कपडा, जूते आदि का दान करना चाहिए।
  • लोहे को खरीदना नहीं चाहिए।
  • शनि मंत्र का उच्चारण करना चाहिए। लेकिन
  • शनिवार के दिन कटोरी में सरसों का तेल डालकर उसमे अपना चेहरा देखें और उस तेल को दान करें।
  • शनिवार के दिन अपनी गलतियों के लिए शनि देव से माफ़ी मांगे।
  • घर में शनि देव की मूर्ति व् फोटो न लगाएं।

शिव उपासना

नियमित रूप से शिवलिंग पर जल चढ़ाएं। भोलेबाबा की अराधना करें। शिव मंत्रो का उच्चारण करें। ऐसा करने से भी जातक को कुंडली में शनि की दिशा को सही करने में मदद मिलती है।

हनुमान जी की अराधना

शनिवार के दिन आपको हनुमान मंदिर में जाना चाहिए। और हनुमान जी के सामने लाल रंग के कपडे पहनकर खड़े होना चाहिए। हाथ जोड़कर हनुमान जी की अराधना करें व् हनुमान चालीसा का पाठ करें। ऐसा हर शनिवार को करें ऐसा करने से भी कुंडली में शनि दोष को खत्म करने में मदद मिलती है।

पश्चिम दिशा में करें यह उपाय

नियमित शाम के समय पश्चिम दिशा की और एक दीपक जरूर जलाएं। और उसके बाद शनि मंत्रो का उच्चारण करें। इससे भी आप पर शनि की कृपा बने रहने में मदद मिलती है।

शनि दोष को कम करने के लिए करें पीपल की पूजा

पीपल के पेड़ के नीचे तेल का दीपक जलाएं। खासकर शनिवार के दिन ऐसा जरूर करें। पीपल के साथ शमी के पेड़ की भी पूजा करें। यह दोनों उपाय शनि दोष के प्रभाव को कम करने में मदद करते हैं।

कौवा

नियमित कौवे को रोटी खिलाएं। चीटियों को आटा खिलाएं। दरवाज़े पर आये गरीब को भूखे पेट न भेजे। यह सभी अच्छे कर्म भी शनि दोष को कम करने में मदद करते हैं।

ज्योतिष से पूछें

आपकी राशि के अनुसार आपको कौन सा उपाय ज्यादा फल देता है। और कौन सा उपाय करने से आपको शनि दोष से मुक्ति मिलती है। इसके बारे में एक बार अपने ज्योतिष से भी जरूर पूछें। ताकि आपको अपनी राशि के अनुसार सही उपाय मिल सके।

शनि की कृपा पाने के अन्य उपाय

  • कभी भी झूठ व् बुराई का साथ नहीं देना चाहिए
  • हमेशा सच्चाई व् ईमानदारी के रास्ते पर चलना चाहिए।
  • बुजुर्गों का हमेशा सम्मान करना चाहिए।
  • तुलसी में जल चढ़ाएं, दीपक जलाएं।
  • पीपल को जल दें, दीपक जलाएं, खासकर शनिवार को।
  • अहंकार घमंड न करें हमेशा सबके साथ विनम्र रहें।
  • गर्भपात न करवाएं।
  • स्त्रियों का सम्मान करें।
  • हरियाली कम न करें यानी की पेड़ो को न काटें न कटवाएं।
  • सुबह समय से उठें और नियमित शिवलिंग पर जल अर्पित करें।
  • ॐ शं शनैश्चराय नमः, यह शनि का मूल मंत्र है इसका जाप जरूर करें।
  • दान धर्म के काम करते रहें।
  • फलदार और लम्बी अवधि तक रहने वाले पेड़ लगाएं।
  • बुरी चीजों से दूर रहें।
  • नीले रंग का अधिक इस्तेमाल करें जैसे की कपडे नीले रंग के अधिक पहनें, आदि।

तो यह हैं कुछ खास उपाय जो आपको शनि की टेढ़ी नज़र से बचाव करने में मदद करते हैं। और ऐसा करने से शनि दोष को कम करने व् कुंडली में शनि को सही दिशा में रहने में मदद करते हैं।