Muhurat Panchang and Festivals

अगस्त 2021 में अमावस्या कब है? तिथि और मुहूर्त

0

साल भर में बारह अमावस्या आती है और हर अमावस्या का अपना अलग महत्व होता है और हर अमावस्या किसी न किसी का प्रतिक होती है। साल 2021 में भी अमावस्या आएँगी और हर अमावस्या की तिथि और मुहूर्त की जानकारी के बारे में अधिकतर लोग पूरी जानकारी चाहते हैं। इस आर्टिकल में हम आपसे अगस्त माह में आने वाली अमावस्या के बारे में बताने जा रहे हैं।

साल 2021 में अगस्त महीने में श्रवण माह चल रहा होगा ऐसे में अगस्त माह में आने वाली अमावस्या को श्रावण अमावस्या कहा जाएगा। श्रावण अमावस्या को श्रावणी अमावस्या, हरियाली अमावस्या, चितलागी अमावस्या, चुक्कला अमावस्या, गटारी अमावस्या आदि नामों से भी जाना जाता है।

श्रावण माह बहुत ही खास और पावन महीना होता है क्योंकि इस महीने में भोलेबाबा की भक्ति का सबसे ज्यादा महत्व होता है। ऐसे में श्रावण अमावस्या भी बहुत ही खास होती है और इस अमावस्या के दौरान कई जगह मेले लगाएं जाते हैं, वृक्षारोपण किया जाता है, दान धर्म में काम किये जाते हैं,आदि। साथ ही इस मौसम में बरसात की झमझम से मौसम सुहाना बना रहता है।

हरियाली अमावस्या यानी श्रावण अमावस्या का महत्व

सबसे पहले श्रावण अमावस्या को हरियाली अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि श्रावण माह में बारिश के आने से धरती का कोना कोना खिल उठता है, पेड़ पौधों को नया जीवन मिलता है सब जगह हरियाली हो जाती है जिससे धरती पर रहने वाले लोगो को फायदा मिलता है इसीलिए इसे हरियाली अमावस्या कहा जाता है।

और इसीलिए इस अमावस्या का महत्व भी अधिक होता है। इसके अलावा श्रावण अमावस्या का दिन पितरों की पूजा करने के लिए, दान धर्म के काम करने के लिए, व्रत रखने के लिए, बहुत अधिक शुभ माना जाता है। इसके अलावा हरियाली अमावस्या होने के कारण इस दिन वृक्षारोपण करने का भी बहुत अधिक महत्व होता है। इसीलिए कई लोग इस महीने में वृक्षारोपण का कार्य भी करते हैं।

श्रावणी अमावस्या या हरियाली अमावस्या पर कौन से धार्मिक कर्म करने चाहिए?

  • इस दिन हो सके तो आपको किसी पवित्र नदी, कुंड में स्नान जरूर करना चाहिए।
  • यदि आप कुंड या नदी पर नहीं जाते हैं तो घर में सुबह समय से उठकर नहा धोकर तैयार हो जाना चाहिए।
  • श्रावण अमावस्या के दिन पितरों के नाम का व्रत करना चाहिए।
  • व्रत रखने के बाद अपनी इच्छा अनुसार दान दक्षिणा देने का काम करना चाहिए आप चाहे तो गरीबों को भोजन आदि भी करवा सकते हैं।
  • श्रावण अमावस्या को हरियाली अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है ऐसे में इस दिन नीम, तुलसी, पीपल, बरगद आदि पेड़ पौधे लगाने चाहिए क्योंकि इन सभी में देवताओं का वास होता है और ऐसा करने से आपको मनचाहे फल की प्राप्ति हो सकती है।
  • इस दिन हनुमान मंदिर में जाकर हनुमान चालीसा का पाठ करें व सिंदूर और चमेली के तेल को हनुमान जो को अर्पण करें।
  • श्रावण अमावस्या के दिन मछलियों को आटे की गोलियां खिलाएं साथ ही चीटियों को भी आटा खिलाएं ऐसा करने से आपको पुण्य मिलता है।

हरियाली अमावस्या 2021 तिथि व मुहूर्त

2021 श्रावण अमावस्या तिथि: श्रावण अमावस्या 8 अगस्त 2021 दिन रविवार को है।

श्रावण अमावस्या प्रारम्भ: यह अमावस्या 7 अगस्त 2021 दिन शनिवार को शाम 07:11 से शुरू होगी।

श्रावण अमावस्या समापन:श्रावण अमावस्या 8 अगस्त 2021 दिन रविवार को शाम 07:21 पर समाप्त होगी।

तो यह है श्रावण माह में यानी अगस्त 2021 में अमावस्या आने वाली श्रावण अमावस्या या हरियाली अमावस्या की तिथि, मुहूर्त, महत्व व धार्मिक कर्म से जुडी सम्पूर्ण जानकारी।

Leave a comment