Take a fresh look at your lifestyle.

शुभ मुहूर्त मई 2019, गृह प्रवेश, गृह निर्माण, वाहन और व्यापार मुहूर्त

शुभ मुहूर्त मई 2019

Muhurat May 2019 : Griha Pravesh May 2019, Griha Nirman May 2019, Car Scooty Bike Commercial Vehicle Purchase Muhurat May 2019, Business Muhurat May 2019, Shop Office Opening Muhurat May 2019, as per date time nakshatra and tithi according to Hindu Panchang and Muhurat Chakra, Online Free Muhurat May 2019 for Shubh Kary.

May Shubh Muhurat 2019

शास्त्रों के अनुसार, अलग-अलग कार्यों को करने के लिए अलग-अलग मुहूर्त होते हैं। यूं ही किसी भी समय, किसी भी दिन बिना मुहूर्त देखे काम करना शुभ नहीं होता। कोई भी काम को शुरू करने से पूर्व उसके शुभ मुहूर्त को देख लेना चाहिए ताकि उस कार्य में सफलता मिले। गृह प्रवेश हो या गृह निर्माण, वाहन खरीदना हो या नई दुकान का उद्घाटन करना हो शुभ मुहूर्त होना जरुरी होता है। यहाँ हम आपको मई 2019 में गृह प्रवेश, गृह निर्माण, वाहन मुहूर्त, व्यापार मुहूर्त और दुकान ऑफिस उद्घाटन का शुभ मुहूर्त दे रहे हैं।

गृह प्रवेश मुहूर्त मई 2019

May Griha Pravesh Muhurat

गृह प्रवेश तारीख गृह प्रवेश दिन गृह प्रवेश नक्षत्र गृह प्रवेश तिथि
2 मई 2019 गुरुवार उत्तराभाद्रपद त्रयोदशी
6 मई 2019 सोमवार रोहिणी द्वितीया, तृतीया
11 मई 2019 शनिवार पुष्य सप्तमी
15 मई 2019 बुधवार हस्त एकादशी
16 मई 2019 सोमवार  चित्रा द्वादशी / त्रयोदशी
23 मई 2019 गुरुवार उत्तरा आषाढ़ पंचमी
29 मई 2019 बुधवार उत्तर भाद्रपद दशमी, एकादशी
30 मई 2019 गुरुवार रेवती एकादशी

गृह प्रवेश के लिए शुभतिथि डॉट कॉम पर मुहूर्त निकालने की विशेष व्यवस्था है, हम आपके लिए आपकी राशि, लग्न और ग्रह के अनुसार और आपके क्षेत्र के अनुसार गृह प्रवेश का मुहूर्त निकालते हैं। मात्र ₹251 के डोनेशन पर। डोनेशन के बाद आप फॉर्म भरें मुहूर्त आपको मेल के द्वारा जल्द से जल्द भेजा जाएगा। 


गृह निर्माण मुहूर्त मई 2019

May Griha Nirman Muhurat

तारीख दिन नक्षत्र तिथि
11 मई 2019 शनिवार पुष्य सप्तमी
16 मई 2019 गुरुवार हस्त, चित्रा द्वादशी
23 मई 2019 गुरुवार उत्तराषाढ़ पंचमी
27 मई 2019 सोमवार शतभिषा अष्टमी
29 मई 2019 बुधवार उत्तराभाद्रपद दशमी
30 मई 2019 गुरुवार रेवती एकादशी
31 मई 2019 शुक्रवार अश्विन द्वादशी

गृह निर्माण / नींव पूजा / भूमि पूजन का मुहूर्त हमेशा गृह स्वामी के नाम व् जन्मतिथि के अनुसार निकाला जाता है। अगर आप भी गृह निर्माण / नींव पूजा के लिए शुभ मुहूर्त निकलवाना चाहते हैं, तो नीचे दिए गए पेमेंट बटन पर क्लिक कर अपने लिए शुभ मुहुर्त लें सकते हैं। सहयोग करने के लिए कृपया ₹251 का डोनेशन करें। मुहूर्त जल्द ही आपके ईमेल पर भेजा जाएगा। पेमेंट के बाद अपनी सभी डिटेल्स फॉर्म में भरें, जो पेमेंट के बाद ओपन होगा।


वाहन खरीदने का मुहूर्त मई 2019

May Vehicle Purchase Muhurat

तारीख दिन नक्षत्र तिथि
2 मई 2019 गुरुवार रेवती त्रयोदशी
9 मई 2019 गुरुवार पुनर्वसु पंचमी, षष्ठी
10 मई 2019 शुक्रवार पुनर्वसु, पुष्य षष्ठी
16 मई 2019 गुरुवार चित्रा त्रयोदशी
19 मई 2019 रविवार अनुराधा प्रतिपदा
24 मई 2019 शुक्रवार श्रवण षष्ठी
26 मई 2019 रविवार धनिष्ठा, शतभिषा अष्टमी
27 मई 2019 सोमवार शतभिषा अष्टमी
30 मई 2019 गुरुवार रेवती एकादशी

वाहन हमेशा खरीदार के नाम, राशि, जन्मतिथि और क्षेत्र के अनुसार वाहन कौन सी तिथि को खरीदना चाहिए? और कब शुभ रहेगा आपके लिए ताकि उस वाहन से लाभ हो। मात्र 201 रूपए के डोनेशन पर। डोनेशन के बाद अपना फॉर्म भरें जिसमे नाम, जन्म तिथि, जन्म समय, जन्म क्षेत्र और अपना विवरण भरें। हम आपको जल्द से जल्द मुहूर्त आपके मेल पर भेजे देंगे।

व्यापार मुहूर्त मई 2019

May Vyapar Muhurat

तारीख दिन नक्षत्र तिथि
6 मई 2019 सोमवार रोहिणी द्वितीया
15 मई 2019 बुधवार हस्त एकादशी
16 मई 2019 गुरुवार चित्रा द्वादशी
19 मई 2019 रविवार अनुराधा प्रतिपदा
30 मई 2019 गुरुवार रेवती एकादशी
31 मई 2019 शुक्रवार अश्विनी द्वादशी

दुकान ऑफिस उद्घाटन मुहूर्त मई 2019

Office Shop Opening Muhurat

तारीख दिन तिथि नक्षत्र
11 मई 2019 शनिवार सप्तमी पुष्य
15 मई 2019 बुधवार एकादशी हस्त
16 मई 2019 गुरुवार द्वादशी चित्रा
19 मई 2019 रविवार प्रतिपदा अनुराधा
23 मई 2019 गुरुवार पंचमी उत्तराषाढ़
29 मई 2019 बुधवार दशमी उत्तराभाद्रपद
30 मई 2019 गुरुवार एकादशी रेवती, अश्विनी
31 मई 2019 शुक्रवार द्वादशी अश्विनी

Note : कई क्षेत्रों में खरमास, श्राद्ध, शुक्र-गुरु अस्त, पंचक, चातुर्मास में मुहूर्त नहीं करते। इसलिए मुहूर्त देखने के पहले और करने के पहले इन बातों का जरूर ध्यान रखें। क्यूंकि अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग मान्यता के अनुसार ये होता है। आप अपने क्षेत्र के अनुसार ही मुहूर्त करें। यहाँ मुहूर्त देखने के पहले और शुभ कार्य करने के पहले अपने क्षेत्र के पंचांग के अनुसार ही करें। हमारी कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी।