Ultimate magazine theme for WordPress.

वरुथिनी एकादशी 2019, वरुथिनी एकादशी व्रत कथा और मुहूर्त

वरुथिनी एकादशी व्रत 2019

Varuthini Ekadashi 2019

हिन्दू पंचांग के अनुसार, एकादशी का व्रत बहुत खास माना जाता है। कहते हैं एकादशी तिथि का व्रत रखने से बड़े से बड़े पापों से छुटकारा मिल जाता है और मोक्ष की प्राप्ति होती है।

वरुथिनी एकादशी

हिंदी कैलेंडर के अनुसार, वैशाख माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी को वरुथिनी एकादशी के रूप में मनाया जाता है। वरुथिनी एकादशी को बहुत खास माना जाता है। पद्मपुराण में वरुथिनी एकादशी को लोक और परलोक में सौभाग्य प्रदान करने वाली कहा जाता है। इस व्रत को रखने से जातक को लाभ मिलता है और समूल पापों का नाश हो जाता है।

वरुथिनी एकादशी का महत्व

वैशाख माह में आने वाली इस एकादशी को सुख और सौभाग्य के लिए जाना जाता है। इस व्रत से कई लाभ मिलते हैं। वरुथिनी एकदाशी का व्रत रखने से पाप, ताप और दुःख दूर होते हैं और अनंत शक्ति मिलती है। वैशाख कृष्ण पक्ष की एकादशी को भगवान मधुसुधन की पूजा की जाती है। माना जाता है, सूर्य ग्रहण के समय स्वर्ण दान करने से जो फल मिलता है। वही फल वरुथिनी एकादशी का उपवास रखने से मिलता है।

Varuthini Ekadashi 2019 Date

वरुथिनी एकादशी कब है 2019?

2019 में वरुथिनी एकादशी 30 अप्रैल 2019, मंगलवार को है।

वरुथिनी एकादशी व्रत मुहूर्त

एकादशी व्रत पारण मुहूर्त = 1 मई 2019, बुधवार प्रातः 06:44 से 08:22 तक।

पारण के दिन हरी वासर समाप्त = 1 मई 2019, बुधवार प्रातः 06:44 तक।

एकादशी तिथि प्रारंभ = 29 अप्रैल 2019, सोमवार रात 10:04 बजे।
एकादशी तिथि समाप्त = 1 मई 2019, बुधवार अर्धरात्रि 12:18 बजे।