Hindi Panchang, Online Muhurat, Astrology Services, Festivals, Vrat Tyohar

सितम्बर 2020-पंचांग और कैलेंडर

सितम्बर 2020-पंचांग और कैलेंडर, आश्विन संक्रांति फल, एकादशी व्रत, अमावस्या, पूर्णिमा, प्रदोष व्रत, गणेश चतुर्थी,  लोक भविष्य, राशिफल, अनंत चतुर्दशी व श्री महालक्ष्मी व्रत, पितृपक्ष श्राद

इस लेख हम सितम्बर माह 2020 के बारे में जानेंगे के कब कब है व्रत व् त्यौहार ? सितम्बर 2020 में कब आने वाली है पूर्णिमा और अमावस्या ?

अनंत चतुर्दशी व्रत सितम्बर 2020

  • 1 सितम्बर 2020, मंगलवार
  • इसी दिन जालंधर में भगवान् शेषनाग के अंशावतार बाबा सोढल का भव्य मेला आयोजित किया जाता है।

एकादशी व्रत सितम्बर 2020 

  • 13 सितम्बर 2020, रविवार के दिन इन्दिरा एकादशी व्रत है।
  • 27 सितम्बर 2020, रविवार को पुरुषोत्तमा एकादशी व्रत है।

प्रदोष व्रत सितम्बर 2020 

  • 15 सितम्बर 2020, मंगलवार
  • 29 सितम्बर 2020, मंगलवार

पूर्णिमा सितम्बर 2020

  • 2 सितम्बर 2020, बुधवार को भाद्रपद पूर्णिमा है।

पितृपक्ष श्राद

  • 2 सितम्बर 2020 से पितृपक्ष श्राद प्रारम्भ है।

श्री गणेश चतुर्थी व्रत सितम्बर 2020

  • 5 सितम्बर 2020, शनिवार

श्री महालक्ष्मी व्रत सितम्बर 2020

  • 10 सितम्बर 2020, गुरूवार

आश्विन संक्रांति सितम्बर 2020

  • 16 सितम्बर 2020, बुधवार, प्रथम आश्विन कृष्ण पक्ष, चतुर्दशी तिथि, मघा नक्षत्र पर पूर्वा-फाल्गुनी नक्षत्र रात्रि 7:07 पर मीन लग्न में  प्रवेश करेगी।
  • 30 मुहूर्त्ति इस संक्रांति का पुण्यकाल दोपहर 2:43 बाद प्रारम्भ होगा।
  • वारानुसार मन्दाकिनी तथा नक्षत्रानुसार घोरा नामक यह संक्रांति राजनेताओं के लिए लाभप्रद रहेगी।

अमावस्या सितम्बर 2020 

  • 17 सितम्बर 2020, गुरूवार को आश्विन/ महालय अमावस है।

लोक भविष्य सितम्बर 2020

  •  बुधवार की संक्रांति होने से धान्यादि के भाव समान रहे परन्तु सामान्य लोगों में पीड़ा व भय की घटनाये घटित होगी।
  • प्रथम चांद्र आश्विन मास में पांच गुरूवार होने से देश के पश्चिमी भागों, जैसे , पंजाब, राजस्थान, गुजरात आदि प्रदेशों में कहीं उपद्रव, आंतकादि विस्फोटक एवं हिंसक घटनाये घटित होने के संकेत है।
  • कुछ प्रदेशों में उपयुक्त वर्षा की कमी रहे तो कहीं बाढ़ आदि प्राकृतिक प्रकोपों से जन,धन,संपत्ति को क्षति पहुंचेगी।

राशिफल सितम्बर 2020

  • मेष, वृष,कन्या, वृश्चिक, धनु, मकर व मीन राशि वालों के लिए यह संक्रांति सुखकर एवं लाभकारी होगी।
  • शेष राशि वालों के लिए कुछ परेशानी रहेगी।