4 सितम्बर 2021 का पंचांग और मुहूर्त

0

Aaj Ka Panchang In Hindi, Today Panchang In Hindi, Online Hindi Panchang for 4 September 2021, Today Tithi 4 September 2021, Aaj ka Panchang, Aaj ka Muhurat, Aaj ka Shubh Samay, Shubh and Ashubh Muhurat, Auspicious time, Muhurat Timing, Choghadiya Muhurat for 4 September.

किसी भी कार्य को करने से पहले शुभ मुहूर्त, शुभ समय, अशुभ समय का विशेष ध्यान रखा जाता है ताकि कार्य शुभ हो। अगर आप पंचांग देखकर शुभ कार्य को करते हैं तो आपका कार्य बिना किसी कठिनाई के संपन्न होगा और फलेगा, सफलता मिलेगी।

4 September 2021 panchang: आज का पंचांग कैसा है शुभ कार्य करने के लिए 4 सितम्बर 2021, शनिवार

आज दिनांक 4 सितम्बर 2021 तिथि, नक्षत्र, सूर्योदय, सूर्यास्त, शुभ समय कब से कब तक है, अशुभ समय कब है, राहु काल की जानकारियां, आज का पर्व त्यौहार सितम्बर ४, २०२१ पंचांग और शुभ मुहूर्त की विस्तृत जानकारियां।

शनिवार, 4 सितम्बर 2021 का पंचांग

तिथिद्वादशी 08:24 AM तक उसके बाद त्रयोदशी
नक्षत्रपुष्य 05:45 PM तक उसके बाद अश्लेशा
पक्षकृष्ण पक्ष
माहभाद्रपद
सूर्योदय05:40 AM
सूर्यास्त06:14 PM
चंद्रोदय03:41 AM, Sep 05
चन्द्रास्त04:43 PM

Auspicious Timings : आज का शुभ समय जिसमे शुभ मुहूर्त किया जा सकता है। आज दिनांक शनिवार 4 सितम्बर 2021 का शुभ टाइम। अगर कोई शुभ कार्य करने जा रहे हैं तो अभिजीत समय में करें। उसके बाद अन्य में कर सकते हैं जब अभिजीत का समय नहीं हो तो।

अभिजीत मुहूर्त11:32 AM से 12:22 PM
अमृत काल मुहूर्त11:05 AM से 12:45 PM
विजय मुहूर्त02:02 PM से 02:53 PM
गोधूलि मुहूर्त06:01 PM से 06:25 PM
सायाह्न संध्या मुहूर्त06:14 PM से 07:22 PM
निशिता मुहूर्त11:34 PM से 12:20 AM, Sep 05
ब्रह्म मुहूर्त04:09 AM, Sep 05 से 04:54 AM, Sep 05
प्रातः संध्या04:31 AM, Sep 05 से 05:40 AM, Sep 05

Inauspicious Timings : आज का अशुभ समय जिसमे शुभ कार्य नहीं किया जा सकता है। आज दिनांक शनिवार 4 सितम्बर 2021 का अशुभ समय।

दुष्टमुहूर्त05:39:26 से 06:29:47 तक, 06:29:47 से 07:20:07 तक
कालवेला / अर्द्धयाम13:12:28 से 14:02:49 तक
गुलिक काल05:39:26 से 07:13:49 तक
यमगण्ड13:31:21 से 15:05:44 तक
भद्राकोई नहीं है
गण्ड मूल05:45 PM से 05:40 AM, Sep 05

विशेष मुहूर्त और योग : 

कुछ शुभ मुहूर्त होते हैं जैसे सर्वार्थसिद्धि, अमृतसिद्धि, गुरुपुष्यामृत और रविपुष्यामृत योग। जब किसी कार्य को करना हो और मुहूर्त उस समय नहीं हो तो इन विशेष योग या महूर्त में शुभ कार्य किया जाता है।

यदि सोमवार के दिन रोहिणी, मृगशिरा, पुष्य, अनुराधा तथा श्रवण नक्षत्र हो तो सर्वार्थसिद्धि योग का निर्माण होता है। शुभ मुहूर्तों में सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त माना जाता है- गुरु-पुष्य योग। यदि गुरुवार को चन्द्रमा पुष्य नक्षत्र में हो तो इससे पूर्ण सिद्धिदायक योग बन जाता है। जब चतुर्दशी सोमवार को और पूर्णिमा या अमावस्या मंगलवार को हो तो सिद्धिदायक मुहूर्त होता है।

आज का शुभ योग जिसमे कोई भी मुहूर्त किया जा सकता है। ये योग बहुत ही शुभ होते है किसी भी शुभ कार्य को करने के लिए।

Shubh Muhurat – 4 September 2021

अभिजीत मुहूर्त11:32 AM से 12:22 PM
सर्वार्थ सिद्धि योगकोई नहीं है
अमृत सिध्दि योगकोई नहीं है
रवि योगकोई नहीं है
द्विपुष्कर योगकोई नहीं है
त्रिपुष्कर योगकोई नहीं है

आज का व्रत / पर्व त्यौहार सितम्बर ४, २०२ हिंदू पंचांग और कैलेंडर के अनुसार

अजा एकादशी पारण, पर्यूषण पर्वारम्भ, प्रदोष व्रत, शनि त्रयोदशी

Leave a comment