Auspecious Muhurat, Daily Panchang and Festivals

पूजा पाठ और वास्तु से जुडी महत्वपूर्ण जानकारियां

0

घर में पूजा पाठ सभी करते हैं ताकि उनके घर में सुख शांति व् समृद्धि बरकरार रहें। साथ ही घर में पूजा पाठ करने से घर के माहौल को सकारात्मक रहने में मदद मिलती है। इसके अलावा कुछ लोग तो घर में कुछ भी करने से पहले वास्तु का भी पूरा ध्यान रखते हैं और अपने घर में वास्तु के अनुसार ही चीजें रखते हैं ताकि पूजा पाठ या घर से जुडी किसी भी चीज के कारण उन्हें किसी भी नकारात्मक प्रभाव का सामना नहीं करना पड़े। तो आज इस आर्टिकल में हम आपको पूजा पाठ व् वास्तु से जुडी कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां भी बताने जा रहे हैं। यदि आप भी इन जानकारियों के बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं तो आर्टिकल को पूरा पढ़े।

मंदिर में इन सभी को एक से ज्यादा नहीं रखें

पूजाघर में पूजा की सभी चीजें होना अच्छी बात होती है लेकिन ध्यान रखें की पूजा घर में कभी भी दो शिवलिंग, तीन गणेश की प्रतिमा, दो सूर्य की प्रतिमा, दो शंख, दो गोमती चक्र, दो शालिग्राम, तीन देवी का पूजन नहीं करना चाहिए। वास्तु के अनुसार ऐसा करना बिल्कुल भी शुभ नहीं माना जाता है।

परिक्रमा करते समय इस बात का ध्यान रखें

पूजा पाठ करते समय, सूर्य को जल चढ़ाते समय आप परिक्रमा जरूर करते हैं और हर देवी देवता की परिक्रमा अलग अलग होती है। जैसे की देवी की एक बार परिक्रमा करनी चाहिए, सूर्य की सात बार परिक्रमा करनी चाहिए, गणेश की तीन बार, विष्णु भगवान् की चारा बार, और भोलेबाबा की आधी परिक्रमा करनी चाहिए। क्योंकि ज्यादा या कम परिक्रमा करने से वास्तु दोष लगने का भय होता है।

पूजा करते समय न बैठे जमीन पर

जब भी आप अपने घर के पूजा गृह में पूजा करते हैं तो ध्यान रखें की आप कभी भी जमीन पर बैठकर पूजा नहीं करें ऐसा करना बिल्कुल भी शुभ नहीं माना जाता है। बल्कि जब भी पूजा करने से पहले अपने लिए आसन जरूर बिछाएं।

घर में शिवलिंग की स्थापना नहीं करें

यदि आप अपने घर में शिवलिंग की स्थापना करना चाहते हैं तो ध्यान रखें की घर में अकेले शिवलिंग की स्थापना नहीं करें क्योंकि ऐसा करना बिल्कुल भी शुभ नहीं होता है। बल्कि यदि आप घर में शिवलिंग स्थापित करना चाहते हैं तो आपको पूर्ण शिवपरिवार की स्थापना करना चाहिए।

घर में मूर्तियों से जुडी इस बात का ध्यान रखें

ऊँची ऊँची भगवान् की प्रतिमा देखने में बहुत आकर्षक लगती है लेकिन आपको घर में कभी भी भगवान् की मूर्ति नौ इंच यानी बाइस सेंटीमीटर से ऊँची नहीं रखनी चाहिए। क्योंकि मंदिर में इतनी ऊँची प्रतिमा रखना शुभ नहीं माना जाता है।

खंडित मूर्तियां मंदिर में नहीं रखें

वास्तु के अनुसार आपको अपने घर के मंदिर में कभी भी खंडित मूर्तियां नहीं रखनी चाहिए। क्योंकि खंडित मूर्तियां रखने से वास्तु दोष लगता है साथ ही खंडित मूर्तियां मंदिर में रखना शुभ भी नहीं होता है। इसके अलावा ध्यान रखें की जब भी कोई मूर्ति खंडित हो जाये तो उसे ऐसे ही फेंके नहीं बल्कि प्रवाह करें।

कलश से जुडी इस बात का ध्यान रखें

कोई भी पूजा कलश के बिना अधूरी होती है। ऐसे में पूजा के दौरान कलश जरूर रखना चाहिए लेकिन ध्यान रखें की कलश को कभी भी जमीन पर नहीं रखना चाहिए। बल्कि कलश रखना है तो आपको किसी प्लेट में कलश को रखना चाहिए।

हवन सामग्री से जुडी इस बात का ध्यान रखें

जब भी आप घर में हवन करवाते हैं तो कई बार ऐसा होता होगा की हवन सामग्री बच जाती है और आप बची हुई हवन सामग्री को मंदिर में रख देते होंगे। यदि आप ऐसा करते हैं तो आपको ऐसा नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसा करना वास्तु के अनुसार बिल्कुल भी सही नहीं होता है। बल्कि आपको बची हुई हवन सामग्री को प्रवाह कर देने चाहिए।

माथे पर तिलक लगाएं

जब भी आप घर से बाहर निकलें तो आपको अपने माथे पर तिलक जरूर लगाना चाहिए हो सके तो चन्दन का तिलक लगाकर निकलें। ऐसा करना बहुत ही शुभ माना जाता है।

एक मकान से दूसरे मकान में न लगाएं यह सामग्री

आप यदि अपना नया घर बनाने जा रहे हैं तो आपको अपने नए घर में पुराने घर से निकला हुआ लोहा, लकड़ी, पत्थर, ईंटें आदि नहीं लगाने चाहिए। क्योंकि वास्तु के अनुसार ऐसा करना बिल्कुल भी शुभ नहीं माना जाता है।

आरती करते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए

जब भी आप आरती करते हैं तो आप सभी भगवान् की तरफ एक ही जितनी आरती घुमाते हैं जबकि वास्तु के अनुसार आपको भगवान् विष्णु के समक्ष बारह बार, सूर्य के समक्ष साथ बार, दुर्गा के समक्ष नौ बार, भोलेबाबा के समक्ष ग्यारह बार और गणेश के समक्ष चार बारे आरती घूमानी चाहिए।

शंख से जुडी यह बात ध्यान रखें

घर में शंखनाद करना बहुत ही शुभ माना जाता है साथ ही मंदिर में शंख रखना भी बहुत शुभ होता है लेकिन ध्यान रखें की आप घर के मंदिर में दो शंख रखें और न ही कभी शंख को गलती से भी जमीन पर रखें। क्योंकि ऐसा करना बिल्कुल भी शुभ नहीं होता है।

पूजा करते समय मुँह की दिशा का ध्यान रखें

जब भी आप पूजा करते हैं तो ध्यान रखें की पूजा करते समय समय आपका मुँह हमेशा पूर्व की तरफ होना चाहिए। क्योंकि पूर्व दिशा की तरफ मुँह करके पूजा करना बहुत ही शुभ माना जाता है। यदि आपका मुँह पूर्व की तरफ नहीं होता है तो आप पश्चिम की तरफ भी अपना मुँह कर सकते हैं।

शिवलिंग को कभी जमीन पर नहीं रखें

यदि आप अपने घर में शिवलिंग लाती है तो ध्यान रखें की आप कभी भी शिवलिंग को जमीन पर नहीं रखें बल्कि आप रेशमी कपडा बिछाएं और उसके बाद उसे जमीन पर रखें। क्योंकि शिवलिंग को जमीन पर रखने से वास्तु दोष लगता है साथ ही इससे आपको आर्थिक तंगी जैसी समस्या का सामना भी करना पड़ सकता है।

तो यह हैं वास्तु व् पूजा पाठ से जुडी जानकारियां, तो आपको भी इन सभी बातों का ध्यान जरूर रखना चाहिए। क्योंकि इन सभी बातों का ध्यान रखने से घर के माहौल को पॉजिटिव रहने, घर में सुख शांति व् समृद्धि को बरकरार रहने में मदद मिलती है।

Leave a comment