Home » पर्व त्यौहार » श्राद्ध 2022 कब है? श्राद्ध में क्या-क्या नहीं करना चाहिए

श्राद्ध 2022 कब है? श्राद्ध में क्या-क्या नहीं करना चाहिए

हिन्दू धर्म में हम कोई भी पर्व मनाते हैं, कोई भी काम करते हैं, पूजा पाठ करते हैं तो हर एक का अलग अलग महत्व होता है। वैसे ही धार्मिक मान्यताओं के अनुसार पितृ पक्ष यानी श्राद्ध का भी बहुत अधिक महत्व होता है। क्योंकि श्राद्ध के दिनों में हम अपने पूर्वजों अपने पितरों की आत्मा की शांति के लिए और पितृ दोष से मुक्ति के लिए प्रार्थना करते हैं, पिंड दान करते हैं, दान धर्म के काम करते हैं, आदि। साथ ही ऐसा माना जाता है की पितृ पक्ष के दिनों में हमारे पूर्वज स्वर्ग लोक से धरती लोक पर हमसे मिलने आते हैं, अपना आशीर्वाद हमे देते हैं। लेकिन यदि हम पितृ पक्ष में कुछ नहीं करते हैं तो इससे पितृ दोष लगने की सम्भावना भी बढ़ती है जिससे आपको अपने जीवन में मुश्किलों का सामना भी करना पड़ सकता है।

कब है श्राद्ध यानि पितृ पक्ष 2022?

पितृ पक्ष यानी श्राद्ध भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा से शुरू होता है और आश्विन मास की अमावस्या तक चलता है। श्राद्ध साल 2022 में, 10 सितम्बर 2022 दिन शनिवार से शुरू होगा और 25 सितम्बर 2022 दिन रविवार सर्व पितृ अमावस्या के दिन समाप्त होगा।

पूर्णिमा श्राद्ध :- 10 सितंबर 2022 दिन शनिवार

प्रतिपदा श्राद्ध :- 10 सितंबर 2022 दिन शनिवार

द्वितीया श्राद्ध :- 11 सितंबर 2022 दिन रविवार

तृतीया श्राद्ध :- 12 सितंबर 2022 दिन सोमवार

चतुर्थी श्राद्ध :- 13 सितंबर 2022 दिन मंगलवार

पंचमी श्राद्ध :- 14 सितंबर 2022 दिन बुधवार

षष्ठी श्राद्ध :- 15 सितंबर 2022 दिन गुरूवार

इन्हें भी पढ़िए   अक्टूबर 2022 में आने वाले त्यौहार कौन-कौन से हैं?

सप्तमी श्राद्ध :- 16 सितंबर 2022 दिन शुक्रवार

अष्टमी श्राद्ध :- 18 सितम्बर 2022 दिन रविवार

नवमी श्राद्ध :- 19 सितंबर 2022 दिन सोमवार

दशमी श्राद्ध :- 20 सितंबर 2022 दिन मंगलवार

एकादशी श्राद्ध :- 21 सितंबर 2022 दिन बुधवार

द्वादशी श्राद्ध :- 22 सितंबर 2022 दिन वीरवार

त्रयोदशी श्राद्ध :- 23 सितंबर 2022 दिन शुक्रवार

चतुर्दशी श्राद्ध :- 24 सितंबर 2022 दिन शनिवार

अमावस्या श्राद्ध :- 25 सितंबर 2022 दिन रविवार

पितृ पक्ष में क्या- क्या नहीं करना चाहिए?

श्राद्ध के दिनों में जहां पितरों को प्रसन्न करके उनसे उनकी कृपा व् आशीर्वाद पाकर जीवन में सुख-समृद्धि आने की मान्यता है वहीं पितृपक्ष में कुछ कामों को करने की मनाही होती है। तो आइए जानते हैं अब जानते हैं की पितृ पक्ष के दौरान क्या नहीं करना चाहिए।

  • पितृ पक्ष के दिनों में ऐसा माना जाता है की आपके पितृ आपसे किसी भी रूप में मिलने आ सकते हैं ऐसे में आपको अपने घर के दरवाज़े पर आये किसी भी व्यक्ति का अपमान नहीं करना चाहिए। और यदि कोई कुछ मांगने के लिए आये तो उसे खाना खिलाकर, दान दक्षिणा देकर विदा करना चाहिए।
  • इन दिनों में आपको घर में शांति बनाई रखनी चाहिए और घर में कलह नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसा माना जाता है की इससे आपके पितृ नाराज़ हो जाते हैं।
  • पितृ पक्ष के दिनों में न तो आपको दाढ़ी बनाई चाहिए, बाल नहीं कटवाने चाहिए, नए कपडे या अन्य कोई नई चीज नहीं खरीदनी चाहिए, कोई भी नया काम शुरू नहीं करना चाहिए, किसी शुभ काम की शुरुआत नहीं करनी चाहिए। क्योंकि इन दिनों में ऐसा कुछ भी करना शुभ नहीं माना जाता है।
  • श्राद्ध के दिनों में मास, मदिरा, अंडा, आदि के साथ हो सकें तो प्याज़ लहसुन के सेवन से भी परहेज करना चाहिए।
  • श्राद्ध के दिनों में शारीरिक सम्बन्ध भी नहीं बनाने चाहिए।
  • ऐसा माना जाता है की शाम का समय राक्षसों का समय होता है ऐसे में आपको शाम के समय श्राद्ध का काम नहीं करना चाहिए।
इन्हें भी पढ़िए   निर्जला एकादशी 2023

तो यह है श्राद्ध 2022 से जुडी जानकारी, तो आप भी कर दी गई जानकारी के अनुसार तिथि देखकर अपने पूर्वजों का श्राद्ध कर सकते हैं। और यदि आपको तिथि नहीं पता है, या आप तिथि के दिन किसी कारण श्राद्ध नहीं कर पाएं हैं तो अमावस्या के दिन आप श्राद्ध कर सकते हैं।